Gotra, Kuldevi of Khandelwal Shrawak खण्डेलवाल श्रावक के गोत्र व कुलदेवियां

Gotra wise Kuldevi of Khandelwal Shrawak :खण्डेलवाल श्रावक के 84 गोत्र हैं। इतिहास कल्पद्रुम में इनके द्वारा श्रावक धर्म अंगीकार करने, गोत्रों की उत्पत्ति एवं गोत्रों के अनुसार अलग-अलग देवियों का उल्लेख मिलता है जो  है-


 Kuldevi List of Khandelwal Shrawak खण्डेलवाल श्रावक के गोत्र एवं कुलदेवियां

सं.कुलदेवीउपासक सामाजिक गोत्र (Gotra of Khandelwal Shrawak Samaj)

1.

अमाणीनिरपाल्या

2.

आभापाटणी

3.

आमणमूंच, बज, सोनी, पापला, वेद, लोग्या, भंसाली, दगड़ावत,

4.

औटलरावत्या

5.

औरलमोठया, राडका, बिलाला, छाबड़ा, भांगड़ा, बेदाल्या

6.

कन्हाड़ीसोगाणी

7.

चक्रेश्वरीसाह, पापड़ीवाल, सेठी,  दरड़ोधा, गदइया, पहाड़िया, पाद्यड़ा, पांगुल्या, भूलाण्या, पीतल्या,  बनमाली, अरड़क, चिरड़क्या, सांभरया, चौवाण्या

8.

चौथीसोमगसा

9.

जगायदौसा

10.

जमवायगंगवाल, जांझरिया, कटारिया, भुंवाल्या, जलवाण्या

11.

जीणबाकलीवाल, कासलीवाल, सरपत्या, हलद्या

12.

नांदणीभौंसा, अजमेरा, निगोतिया, निगर्धा, निरपोल्या, सखडया, कड़बड़ा

13.

पदमावतीपाटोद्या, चौधरी, पोटल्या

14.

पावड़ीटोंग्या

15.

बेथीबिनायक्या

16.

मातण/मातणीगोधा, चांदवाड़, अनोपडया

17.

मोहनीबज्जमहाराया

18.

लोसललुहाड़िया, लोहड़िया

19.

लौटलमोदी

20.

सरस्वतीराजभदरा

21.

श्रीदेवीगींदोड़्या, लटीवाल

22.

सिकरायसाखूण्या, बंबा, राजहंस, अहंकारया, मोलसरा

23.

सोनलकोकणराजा, जुगराजा, मूलराजा, छहड़या, भुसावड़या

24.

सौतल/सौतलीबिरलाला, बोहरा

25.

सौहणीकाला

26.

हेमा
दुकड़ा, गोती, कुलाभाण्या, बोरखंडया, खेत्रपाल्या,



Your contribution आपका योगदान  –

जिन कुलदेवियों व गोत्रों के नाम इस विवरण में नहीं हैं उन्हें शामिल करने हेतु नीचे दिए कमेण्ट बॉक्स में  विवरण आमन्त्रित है। (गोत्र : कुलदेवी का नाम )। इस Page पर कृपया इसी समाज से जुड़े विवरण लिखें। खण्डेलवाल श्रावक से सम्बन्धित अन्य विवरण अथवा अपना मौलिक लेख  Submit करने के लिए Submit Your Article पर Click करें। आपका लेख इस Blog पर प्रकाशित किया जायेगा । कृपया अपने समाज से जुड़े लेख इस Blog पर उपलब्ध करवाकर अपने समाज की जानकारियों अथवा इतिहास व कथा आदि का प्रसार करने में सहयोग प्रदान करें।

17 thoughts on “Gotra, Kuldevi of Khandelwal Shrawak खण्डेलवाल श्रावक के गोत्र व कुलदेवियां”

  1. जैन गोत्र कुहदिया की कुलदेवी लोसल माता जी का मंदिर किस स्थान पर स्थित है और वहां जाने का स्थान कहाँ से होगा इसका विवरण और पूरी जानकारी तथा माता जी के मंदिर के छाया-चित्र सलग्न करें..क्या लोसल माता जी का मंदिर किशनगढ़ राजस्थान में नोसल के पास स्थित है जिसे आनंदी माता जी का मंदिर भी कहा जाता है कृपया खोज कर आवश्यक जानकारी समाहित करें

    प्रतिक्रिया
    • आपके पास की कुल देवियों की जानकारी में ये भी जोड़ें की इन कुल देवियों के मंदिर कहाँ,कहाँ स्थित हैं और इनके दर्शन के लिए कैसे पहुंचा जा सकता है i

      प्रतिक्रिया
  2. कुमावत समाज खन्ना रिया गोत्र की सती माता कहां स्थित है हमारे को नाम और पता हमारे को कई साल हो गया है सती का कोई पता नहीं है कृपया आप कृपा करके हमारे को कृपा करके गांव का नाम बताइए की सती देवी कहां स्थित है मैं पन्ना लाल कुमावत क्षति का पता ढूंढ रहा हूं और कुलदेवता श्री भेरुजी कहां स्थित है कुलदेव श्री श्री कुलदेवता सोनाणा में कौन से गोत्र के हैं सर कृपया हमारे गांव का नाम और एड्रेस और जिला में स्थित हैं वह बताइए श्री सोनाणा कौन से गांव में स्थित हैं वह बताइए सती माता कौन से जिले में स्थित है केवल जिला और गांव का नाम और पता हमारे को बताइए

    प्रतिक्रिया

Leave a Comment

This site is protected by wp-copyrightpro.com