You are here
Home > विविध > जाट समाज के गोत्रों की लिस्ट Jat Samaj History and All Gotras List

जाट समाज के गोत्रों की लिस्ट Jat Samaj History and All Gotras List





Chabbarwal (चब्बरवाल)Chabbaswal (चब्बसवाल)Chachhan (चछन)Chachchhan (चच्छन)Chadda (चड्डा)Chaddha (चड्ढा)
 Chadhan (चढान) Chadhdhan (चढ्ढान) Chadhdhe (चढ्ढे) Chadhar (चढार) Chadhari (चधारी) Chadhori (चधोरी)
 Chaddu (चद्दू) Chagal (चगल) Chaghori (चघोरी) Chagna (चगना) Chahrag (चहराग) Chail (चैल)
 Chaina (चैना) Chaitha(चैथा) Chaj (चज) Chajkar (चजकर) Chakora (चकोरा) Chakrati (चक्राति)
 Chalawaria (चलावरिया) Chalavarya (चलावरया) Chaleh (चलेह) Chaliky (चलक्य) Chalka (चल्का) Chalkar (चलकर)
 Chalksar (चल्कसर) Chalsar (चलसर) Chaharag (चहारग)/(चहारगा) Chaluky (चलुक्य) Chambarwal (चम्बरवाल) Chamer (चमेर)
 Chamkane (चमकाने) Chamkone (चमकोने) Chanal (चनाल) Chanam (चनम) Chanav (चनाव) Chanbal (चणबल)
 Chandawat (चन्दावत) Chanekar (चनेकर) Chani (चनी) Chankar (चनकर) Channa (चन्ना) Channar (चन्नर)
 Chander (चन्देर) Chapotkat (चपोत्कट) Charad (चरड़) Charaka (चरका) Charana (चराणा) Charani (चरानी)
 Charania (चरानिया) Charave (चरावे) Charavi (चरावी) Charka (चरका) Charkhe (चरखे) Chasti (चस्ती)
 Chatkar (चटकर) Chatta (चट्टा)/(चत्ता) Chattha (चट्ठा)/(चत्ता) Chatthe (चट्ठे) Chatur (चतुर) Chatyal (चत्याल)
 Chavel / Chawel (चवेल) Chacha (चचा)
 Chaba (चाबा) Chabhar (चाभर) Chabuk (चाबुक Chachad (चाचड़) Chachar (चाचड़) Chachhan (चाछन)
 Chad (चाड ) Chahad (चाहड़) Chahal (चाहल) Chahar (चाहर)/(चाहड़) Chahng (चाहंग) Chahat (चाहट)
 Chahil (चाहिल) Chahiyan (चाहियाण) Chaji (चाजी) Chak (चाक) Chakal (चाकल) Chakan (चाकन)
 Chakara (चाकरा) Chalukiy (चालुकिय) Chaluky (चालुक्य) Chalukya (चालुक्य) Chamad (चामड़) Chamal (चामल)
 Chaman (चामन) Chamar (चामर) Chanan (चानन) Chand (चान्द) Chandal (चान्दल) Chano (चानो)
 Chapoo / Chapu (चापू) Chaponkat (चापोन्कट)  Char (चार) Charaj (चारज) Charan (चारण) Chari (चाड़ी)
 Charia (चारिया) Chariya (चारिया) Chat (चाट) Chatak (चातक)Chavuk (चावुक) Chatar (चातर)
 Chatra (चातरा) Chattar (चाटटार) Chavan (चावन) Chawan (चावन) Chawda (चावड़ा) Chawra (चावड़ा)
Chayal (चायल) Chayda (चायदा) Chandawat (चान्दावत)
 Chibh (चिभ) Chibhan (चिभन) Chidimaria (चिड़ीमारिया) Chiga (चिगा) Chigad (चिगद) Chigta(चिग्टा)
 Chijaria(चिजाड़िया) Chikara (चिकारा) Chikati (चिकटी) Chikora (चिकोरा) Chilka (चिलका) Chilkha (चिलखा)
 China (चिना)Chinar (चिनार) Chiniyosh (चिनीयोश) Chiraniya (चिराणिया) Chirauj (चिरोज) Chitana (चिताणा)
 Chirewale (चिरेवाले) Chiria (चिड़िया) Chirimariya (चिड़ीमारिया) Chitalya (चितल्या) Chitan (चितान) Chitaniya (चितानिया)
 Chitar (चितार) Chitaria (चितारिया) Chitariya (चितारिया) Chitha (चिठा) Chitiyan (चितियान) Chitraoda (चितरावड़ा)
 Chitraora (चितरावड़ा) Chitrawda (चितरावड़ा) Chittha (चिट्ठा) Chityan (चित्यान) Chivulak (चिवुलक)
 Chilar/Cheelar (चीलर) Chima /Cheema (चीमा) Chimni/Cheemni (चीमनी) China/Cheena (चीना)
 Chudiwar (चू्डीवार) Chug (चुग)Chula (चुला) Chuhan (चुहान) Chulik (चुलिक) Chukhra (चुकरा)
 Chukni (चुकनी) Chukrani (चुकरानी) Chulug (चुलुग) Chulukya (चुलुक्य) Chunian (चुनियन) Chunkar (चुनिकर)
 Churail (चुरैल) Chumban (चुंबन) Chusia / Chusiya  (चुसिया) Chutan (चुतन) Chuthan (चुथन) Chuttan (चुत्तन)
Chulha (चूल्हा) Chulhe (चूल्हे) Chundiwal (चूण्डीवाल) Churania (चूरणिया) Churigar (चूरीगर) Churiwal (चूड़ीवाल)
 Churnya (चूरण्या) Chuhad (चू्हड़)  Chuhar (चू्हड़) Chudiwal (चूड़ीवाल)
 Chebku (चेबकु) Chebuk (चेबुक) Chedi (चेदि)/(चेदी) Chekitan (चेकितान) Chektan (चेकतान) Chemiya (चेमिया)
 Chenji (चेंजी) Chetak (चेतक) Cheval (चेवल) Chevku (चेवकु)
Chohan (चोहान) Chohang (चोहंग) Chohari (चोहारी) Chokahi (चोकाही) Chokhia (चोखिया) Chokra (चोकड़ा)
 Choniya (चोनिया) Chonkar (चोंकर) Chonpra (चोंपड़ा) Chopotkat (चोपोत्कट) Chopra (चोपड़ा) Choradia (चोरड़िया)
 Chosar (चोसर) Chotia (चोटिया) Chowah (चोवह) Chowan (चोवन) Chokra (चोकडा) Choluky (चोलुक्य)
 Chondhar (चोंधर) Chopda (चोपडा) Chopra (चोपडा) Choria (चोरिया) Chotiya (चोटिया) Chotya (चोट्‍या)
 Choundiyan (चोंदि‍यान) Chova (चोवा) Choyal (चोयल)
 Choudhary (चौधरी) Choula (चौला) Chauba (चौबा) Chaucha (चौचा) Chaudahrana (चौदहराणा) Chaudhar (चौधर)
 Choudhari (चौधरी) Chaudharana (चौधराणा) Chaudhari (चौधरी) Chaudhary (चौधरी) Chauhan (चौहान) Chaujaria (चौजाड़िया)
 Chaujariya (चौजाड़िया) Chaukar (चौकर) Chaul (चौल) Chaula (चौला) Chaululik (चौलुलिक) Chaundiyan (चौण्डियान)
 Chaupda (चौपडा) Chaupra (चौपडा) Chauras (चौरस)/ (चौरास) Chaura (चौरा) Chaurat (चौरट)(चौरत) Chaurath (चौरठ)
 Chaurlya (चौरल्या) Chautia (चौटिया) Chautiya (चौटिया) Choaul (चौल)
 Chanchal (चंचल) Chandad (चंदड़) Chandarh (चंदढ़) Chandar (चंदड़)/(चन्दर) Chandariya (चंदडिया) Chandbar (चंडबर)
 Chandel (चंदेल) Chandele (चंदेले) Chandelia (चंदेलिया) Chandhari (चंधारी) Chandhari (चंधारी) Chandi (चंदी)
 Chandoliya (चंदोलिया) Chandravanshi (चंद्रवंशी) Chandrayan (चंदरायण) Chandu (चंदू) Chandwa (चंदवा) Chandwal (चंदवाल)
 Changa (चंगा) Chang (चंग) Chanon (चनों ) Chandaurchalukiy (चंदौरचालुकीय)
 Chandadya (चांदडया) Chandan (चांदन) Chandaur (चांदौर) Chandia (चांदिया) Chandiwal (चांदीवाळ) Chandni (चांदनी)
 Chang (चांग) Changal (चांगल) Changala (चांगला) Changar (चांगर) Changari (चांगरी) Changas (चांगस)
 Chanwan (चांवन)




Chhabain (छबैण)Chhabarwal (छबरवाल)Chhachhar (छछर)Chhachharan (छछरन)Chhacharik (छछरिक)Chhachharwal (छछरवाल)
 Chhadal (छदल) Chhadang (छडंग) Chhag (छग) Chhagolya (छगोल्या) Chhaju (छजू) Chhalawarya (छलावरया)
 Chham (छम) Chhamia (छमिया) Chhana (छना)/(छणा) Chhaner (छनेर) Chhandla (छन्दला) Chharaj (छरज)
 Chharang (छरंग) Chharwal (छरवाल) Chhatank (छटंक) Chhatar (छतर) Chhatarwal (छतरवाल) Chhatha (छता)
 Chhatta (छटटा)
 Chhaba (छाबा) Chhadhot (छाढोट) Chhaga (छागा) Chhaj (छाज) Chhajra (छाजडा़)Chajri (छाजरी)
 Chhan (छान) Chhanb (छान्ब ) Chhangad (छांगड़) Chhangar (छांगड़) Chhapara (छापरा) Chhaparia (छापरिया)
 Chhaparya (छापरया) Chhapariya (छापरीया) Chharot (छारोट) Chharul (छारुल) Chhatarwal (छातरवाल) Chhava (छावा)
  Chhidang (छिड़ंग) Chhidar (छिदड़) Chhikara (छिकारा) Chhikara (छिकारा) Chhillar (छिल्लर)  Chhirus (छिरस)
 Chhim (छिम) Chhimba (छिम्बा) Chhinang (छिणंग) Chhindoke (छिनदौके) Chhirang (छिरंग)
 Chhiv (छिव)
Chhitar (छीतर) Chhilwal (छीलवाल) Chhina (छीना) Chhinkar (छींकर) Chheelar (छीलर) Chheena (छीना)
 Chhuhan (छुहान) Chhunkaiya (छूंकेया) Chhuran (छुराण) Chhoorus (छुरस)
 Chhedivar (छेड़िवार) Chhel (छेल) Chhelar (छेलर) Chhail (छैल)
 Chholan (छोलन) Chholet (छोलेत) Chholia (छोलिया) Chholiana (छोलियाना) Chhon (छोन) Chhoni (छोनी)
 Chhonkar (छोंकर) Chhonkara (छोंकरा) Chhonkare (छोंकरे) Chhonker (छोंकर) Chhotia (छोटिया) Chhotiya (छोटिया)
 Chhoylya (छोयल्या) Chhoyla (छोयला) Chhokar (छोकर)
 Chhaunkar (छौंकर) Chhaunkare (छौंकरे) Chhauyal (छौयल)





Jabar (जबर)Jabhe (जभे)Jabhik (जभिक)Jaboke (जबोके)Jad (जद)Jadiya (जड़िया)
 Jadgal (जदगल) Jadsa (जडसा) Jadu (जदू) Jadran (जद्रान) Jadwa (जड़वा) Jadwal (जडवाल)
 Jaeeka (जईका) Jaga (जगा) Jagal (जगल)/(जगाल) Jagale (जगाले) Jagan (जगन) Jagara (जगारा)
 Jagari (जगरी) Jagaua (जगौआ) Jagdal (जगदल) Jagdev (जगदेव) Jagdi (जगदी) Jaghdal (जघदाल)
 Jaggal (जग्गल) Jaghale(जघाले) Jagjaum (जगजौम)Jagla (जगला) Jaglain (जगलैन) Jaglan(जगलान)
 Jaglana (जगलाना) Jaglaranya (जगलारण्य)Jaglem (जगलेम) Jaglen (जगलेन) Jagoa (जगौआ) Jagra (जगरा)
 Jagralenay (जगरालेणय) Jagri (जगरी) Jagunda (जगुन्दा) Jagwa (जगवा) Jagwoha (जगवोहा) Jahajhara (जहाझड़ा)
 Jahami (जहमी) Jahanbar (जहाँबर) Jahanbo (जहांबो) Jahi (जही) Jahuri (जहूरी) Jai (जय)
 Jajhalia (जझालिया) Jajaria (जजारिया) Jajariya (जजारिया) Jajah (जजाह) Jajja (जज्जा) Jajohan (जजोहन)
 Jajoha (जजोहा) Jajua (जजुआ) Jakari (जकारी) Jakhkha (जख्खा) Jakodia (जकोदिया) Jalaj (जलज)
 Jalaniya (जलानिया) Jalauta (जलौटा) Jalawada (जलावड़ा Jaliyawda (जलियावड़ा) Jaloha (जलोहा) Jalwani (जलवानी)
 Jalwania (जलवानिया) Jalwaniya (जलवानिया) Jama (जम) Jamal (जमाल) Jaman (जमन) Jambh (जम्भ)
 Jamgal (जमगल) Jamik (जमिक) Jamola (जमोला) Jamoliya (जमोलिया) Janak (जनक) Janal (जनाल)
 Janar (जनार) Jandran (जन्द्रण) Janawa (जणावा) Janawar (जणावार) Jandal (जन्दल) Jandan (जन्दन)
 Janer (जनेर)/ (जनेड़) Janewa (जनेवा) Janghara (जनघरा) Janjau (जन्जौ) Janjauha (जनजौहा) Janmeda (जन्मेदा)
 Janmeja (जन्मेज) Janmejay (जन्मेजय) Janvar (जनवार) Janwar (जनवार) Janwas (जनवास) Jarah (जराह)
 Jaral (जराल) Jajjah (जज्जाह) Jalida (जलिदा) Jaralia (जरालिया) Jaraliya (जरालिया) Jaran (जरान)
 Jararnah (जरारनाह) Jarawat (जरावट) Jarawata (जरावटा) Jaria (जरिया) Jarian (जरियान) Jariya (जरिया)
 Jariyan (जरियान) Jarodya (जरोदया) Jaroia (जरोइया) Jarola (जरोला) Jathar (जठर) Jatharwal (जठारवल)
 Jathol (जथोल) Jaticha (जटिचा) Jato (जटोई) Jatoi (जटोई) Jator (जटोर) Jatra (जतरा)
 Jatram (जतराम) Jatran (जतरान) Jatrana (जटराणा) Jatrani (जतराणी) Jatrani (जतरानी) Jatri (जत्रि)
 Jattami (जट्टमी) Jattan (जट्टन) Jatti (जट्टी) Jatu (जतू) Javali (जवाली)  Javar (जवर)
 Javaria (जवरिया) Javariya (जवरिया) Jawar (जवार) Jawara (जवारा) Jawaria (जवरिया) Jawat (जवाट)
 Jawia (जविया) Jayadhwar (जयधवार) Jayale (जयाले) Jayaswal (जयसवाल) Jaymeja (जन्मेज) Jayoniya (जयोनिया)
Jatgal (जटगल) Jawa (जवा) Jawali (जवाली)
 Jabo (जाबो) Jadar (जादर) Jadaulia (जाडौलिया) Jadecha (जाड़ेचा) Jadeja (जाड़ेजा) Jadeya (जाड़ेया)
 Jadhav (जाधव) Jadi (जाडी)/(जादी) Jadin (जाडीन) Jadodiya (जाड़ोदिया) Jadran (जादरान) Jadu (जादू)
 Jadun (जाड़ूं) Jaduran (जादूरान) Jaduvanshi (जदुवंशी) Jafran (जाफरान) Jag (जाग)/(जग) Jage (जागे)
 Jaagoo (जागू) Jagoo (जागू) Jahar (जाहार) Jajunda (जाजुन्दा) Jakha (जाखा) Jakhad (जाखड़)
 Jakhar (जाखड़) Jakhar (जाखर) Jakhaudiya Tomar (जाखौदिया तोमर(तंवर) Jaki (जाकी)  Jal (जाल) Jalap (जालप)
 Jali (जाली) Jaliha (जालीहा) Jaljenda (जालजेन्दा) Jalo (जालो) Jam (जाम) Jamra (जामरा)
 Jamun (जामुन) Jammun (जाम्मुन) Janjhada (जान्झडा) Janjhar (जान्झड) Janki (जानकी) Janu/ Janoo (जानू)
Jara (जारा) Jarale (जाराले) Jaraulia (जारोलिया) Jarjaya (जार्जया) Jarjiya (जारजिया) Jarjya (जार्जया)
 Jarpad (जारपड़) Jarpar (जारपड़) Jatda (जातड़ा) Jathara (जाठरा) Jathi (जाठी) Jatiyan (जाटियान)
 Jatyan (जाटियाण) Jathyian (जाठियान) Jathu (जाथू) Jatrana (जाटराणा) Jatu (जाटू) Jatu (जातू)
 Jatwa (जाटवा) Jatmali (जाटमाली) Javah (जावाह) Jawah (जावाह) Jawalya (जावल्या) Jawla (जावला)
 Jawo (जावो) Jaylan (जायलान) Jaj (जाज)/(जज) Jajada (जाजडा) Jajda (जाजडा) Jajerya (जाजेरया)
 Jajhad (जाझड़ा) Jaji (जाजी) Jajinda (जाजिंदा) Jajar (जाजड) Jajra (जाजडा) Zakar (जाकड़)
 Jiani (जियाणी) Jijja (जिज्जा) Jijwadia (जिजवाड़िया) Jindar (जिंदर) Jinder (जिंदर) Jinahi (जिनही)
 Jinhau (जिन्हौ) Jinhi (जिन्ही) Jitran (जितरान) Jiyol (जियोल)
 Jinjwal (जींजवाल) Jinjwaria (जींजवाडिया) Jitarwal (जीतरवाल) Jitrana (जीतराणा) Jijwaria (जीजवाडिया) Jinja (जीन्जा)
 Jitarwad (जीतरवाड़) Jitwal (जीतवाल) Jiwad (जीवद) Jiwla (जीवला) Jeela (जीला)
 Juadia (जुआड़िया) Juaria (जुआड़िया) Jubaria (जुबाड़िया) Jubariya (जुबाड़िया) Judail (जुडैल) Judawa (जुडावा)
 Jujada (जुजाडा) Juman (जुमन) Junava (जुनावा) Junawa (जुणावा) Junjada (जुंजाडा) Junjadya (जुंजाड़या)
 Junjh (जुंझ) Junman (जुंमन) Jurai (जुरै) Jurail (जुरैल) Jurawa (जुड़ावा) Jurel (जुरेल)
 Juwalya (जुवाल्या) Juwanya (जुवाण्या) Juwar (जुवार) Juhi (जूही) Jujwari (जूजवाड़ी) Julaj (जूलज)
 Jun (जूं) Juna (जून) Junaj (जूनज) Junara (जूँआड़ा) Jura (जूरा) Juta (जूता)
 Joojwari (जूजवाड़ी) Joolan (जूलां) Joonla (जूंला) Joan (जूण) Joon (जून) Joora (जूरा)
 Jehu (जेहू) Jelwal (जेलवाल) Jemi (जेमी) Jenjian (जेंजियां) Jenjuan (जेंजुअन) Jenjuheh (जेंजुहे)
 Jerali (जेड़ाली) Jeri (जेरी) Jeth (जेठ) Jethoo (जेठू) Jetri (जेत्री) Jetu (जेतु)
 Jetwar (जेतवार) Jevalya (जेवल्या) Jewalia (जेवलिया) Jewad (जेवाड़) Jewar (जेवाड़) Jewlia (जेवलिया)
 Jewlya (जेवल्या) Zaildar (जेलदार)
 Jaihotra (जैहोत्रा) Jaijan (जैजण) Jaili (जैली) Jailwal (जैलवाल ) Jaiswar (जैसवार) Jaitwar (जैतवार)
 Jaiwalia (जैवालिया) Jaiwaliya (जैवालिया) Jaiwalya (जैवल्या) Jaiwar (जैवार) Jayjan (जैजण)
 Jochar (जोचर) Jodali (जोडाली) Jodhe (जोधे) Jodia (जोडियाँ) Jodu (जोडू) Jogda (जोगड़ा)
 Jogh (जोघ) Jogra (जोगड़ा) Johal (जोहल) Johar (जोहर) Johe (जोहे) Johil (जोहिल)
 Johiya (जोहिया) Jojah (जोजाह) Jojhad (जोझाड़) Jolana (जोलाणा) Jolaphiya (जोलफिया) Joldaha (जोलदहा)
 Jomar (जोमर) Jondah (जोंदाह) Jondi (जोन्डी)/(जोण्डी) Jondu (जोन्दू) Jopo (जोपो) Jora (जोरा)
 Jorada (जोराड़ा) Jorara (जोराड़ा) Joorail (जूरैल) Jordak (जोरड़क) Jorhad (जोरहड़) Joria (जोडिया)
 Josan (जोसन) Joshi (जोशी) Jot (जोट) Jota (जोटा) Jotad (जोतड़) Jotar (जोतड़)
 Jothra (जोथडा) Jotidwal (जोटिड़वाल) Jotindwa (जोटिन्डवा) Jovalia (जोवलिया) Joveliya (जोवेलिया) Zot (जोट)
 Jauson (जौसोन) Jauhal (जौहल) Jaun (जौन) Jauna (जौन) Jaunda (जौंदा) Jaunchar (जौंचर)
 Jand (जंद) Jandhara (जंधारा) Jandian (जंदियन) Jandu (जंदू) Jangala (जंगाला) Janghala (जंघाला)
 Jangal (जंगल) Jangali (जंगाली) Janghala (जंघाला) Janga (जंगा) Jangha (जंघा)Janghara (जंघारा)
 Janjar (जंजार) Janjar (जंजार) Janjhaliya (जंझालिया) Janjua (जंजुआ) Janjuhan (जन्जुहां) Janti (जंती)
 Jantu (जंटू) Junghale (जंघले) Zangi (जंगी)
 Jandhu (जांधू) Jandi (जांदी)/(जंडी) Jandu (जाँडू) Jandu (जांदू) Jangada (जांगड़ा) Jangal (जांगल)
 Jangla (जांगला) Jangli (जांगली) Jangar (जांगर) Jangara (जांगड़ा) Janghu (जांघू) Jangh (जांघ)
 Jangi (जंगी) Jangla (जांगला) Jangli (जांगली) Jangoo (जांगू) Jangu (जांगू) Jani (जाणी)
 Jani (जानी) Janil (जाणील) Janjad (जांजड़) Janjada (जांजड़ा) Janjar (जांजड़) Janjara (जांजड़ा)
 Janjda (जांजड़ा) Janjh (जांझ) Janjhar (जांझर/ जांझड़) Jantan (जांटान) Jyani (ज्याणी)

Jhad (झड़)Jhadia (झड़िया)Jhagdia (झगड़िया)Jhagotia (झगोटिया)Jhajj (झज)Jhakar (झकार)
 Jhalan (झलन) Jhall (झल्ल) Jhalli (झल्ली) Jhamat (झमत)/(झमट) Jhammat (झम्मत) Jhara (झरा)
 Jhari (झरी) Jhariy (झरिय) Jhatiali (झटियाली) Jhatiyali (झटियाली) Jhatian (झटियान) Jhatiani (झटियानी)
 Jhaal (झाळ/ झाल) Jhadhari (झाधरी) Jhadar (झादर) Jhajh (झाझ) Jhajhad (झाझड़) Jhajhada (झाझड़ा)
 Jhajhda (झाझडा) Jhajhar (झाझर) Jhajharia (झाझडिया) Jhajhla (झाझला) Jhajhra (झाझड़ा) Jhajhria (झाझडिया)
 Jhajhunda (झाझून्दा) Jhajra (झाजड़ा) Jhakar (झाकर) Jhakh (झाख) Jhakkar (झाक्कर) Jhala (झाला)
 Jhalra (झालरा) Jham (झाम) Jhan (झान) Jhana (झाना) Jhar (झार) Jharawanda (झारावंदा)
 Jharwal (झारवाल) Jharwan (झारवान) Jhati (झाटी) Jhawali (झावली) Jhawari (झावरी)
 Jhijhwaria (झिझवाडिया) Jhillak (झिल्लक) Jhinja (झिन्जा) Jhinjha (झिंझा)/(झींझा) Jhinjhar (झिंझर) Jhinjhwaria (झिंझवाडिया)
 Jhinkwan (झिंकवान) Jhilakh (झीलख)
 Jhujh (झुझ) Jhumma (झुम्मा) Jhummat (झुम्मत) Jhund (झुंड) Jhunkale (झुंकले)
 Jhujhla (झूझला) Jhullan (झूल्लन) Jhulne (झूलने) Jhun / Jhoon (झून) Jhurad (झूरड़) Jhurar (झूरड़)
 Jhuran (झूरण) Jhuria (झूरिया) Jhuriya (झूरिया) Jhuthra (झूथरा)Jhootha (झूथा) Jhoota (झूता)
 Jhedu (झेदु)
 Jhojhar (झोझड़) Jhojhara (झोझरा) Jhokar (झोकर) Jhokhar (झोखर) Jhola (झोला) Jholi (झोली)
 Jhonjah (झोंजाह) Jhor (झोर) Jhora (झोरा) Jhorad (झोरड़) Jhorar (झोरड़) Jhotah (झोटा)
 Jhothra (झोथडा) Jhothra (झोथडा)
 Jhandir (झंदिर) Jhandu (झंडू) Jhangotia (झंगोटिया) Jhanjar (झंजार) Jhanjhada (झंझडा़) Jhanjaria (झंजरिया)
 Jhanjh (झंझ) Jhankar (झंकार) Jhanwar (झंवर) Jhandar (झांदर) Jhangi (झांगी) Jhangu (झांगू)
 Jhangri (झांगरी) Jhangu (झांगु) Jhanjara (झांजरा) Jhanjara (झांजरा) Jhanjhar (झांझर) Jhanjhara (झांझरा)
 Jhanjharia (झांझडिया) Jhanjhu (झांझु) Jhansi (झांसी) Jhansra (झांसड़ा)



Sanjay Sharma
Sanjay Sharma is the founder and author of Mission Kuldevi inspired by his father Dr. Ramkumar Dadhich. Mission Kuldevi is trying to get information of all Kuldevi and Kuldevta of all societies on one platform.

167 thoughts on “जाट समाज के गोत्रों की लिस्ट Jat Samaj History and All Gotras List

  1. अगर जाट हो तो पूरा पढ़ना
    गर्व से कहो हम जाट हैं, मगर क्यों ?
    स्वयं को महान् कहने से कोई महान् नहीं बनता । महान् किसी भी व्यक्ति व कौम को उसके महान् कारनामे बनाते हैं और उन कारनामों को दूसरे लोगों को देर-सवेर स्वीकार करना ही पड़ता है। देव-संहिता को लिखने वाला कोई जाट नहीं था, बल्कि एक ब्राह्मणवादी था जिसके हृदय में इन्सानियत थी उसने इस सच्चाई को अपने हृदय की गहराई से शंकर और पार्वती के संवाद के रूप में बयान किया कि जब पार्वती ने शंकर जी से पूछा कि ये जाट कौन हैं, तो शंकर जी ने इसका उत्तर इस प्रकार दिया –
    महाबला महावीर्या महासत्यपराक्रमाः |
    सर्वांगे क्षत्रिया जट्टा देवकल्पा दृढ़व्रताः ||15||
    (देव संहिता)
    अर्थात् – जाट महाबली, अत्यन्त वीर्यवान् और प्रचण्ड पराक्रमी हैं । सभी क्षत्रियों में यही जाति सबसे पहले पृथ्वी पर शासक हुई । ये देवताओं की भांति दृढ़ निश्चयवाले हैं । इसके अतिरिक्त विदेशी व स्वदेशी विद्वानों व महान् कहलाए जाने वाले महापुरुषों की जाट कौम के प्रति समय-समय पर दी गई अपनी राय और टिप्पणियां हैं जिन्हें कई पुस्तकों से संग्रह किया गया है लेकिन अधिकतर टिप्पणियां अंग्रेजी की पुस्तक हिस्ट्री एण्ड स्टडी ऑफ दी जाट्स से ली गई है जो कनाडावासी प्रो० बी.एस. ढ़िल्लों ने विदेशी पुस्तकालयों की सहायता लेकर लिखी है –
    1. इतिहासकार मिस्टर स्मिथ – राजा जयपाल एक महान् जाट राजा थे । इन्हीं का बेटा आनन्दपाल हुआ जिनके बेटे सुखपाल राजा हुए जिन्होंने मुस्लिम धर्म अपनाया और ‘नवासशाह’ कहलाये । (यही शाह मुस्लिम जाटों में एक पदवी प्रचलित हुई । भटिण्डा व अफगानिस्तान का शाह राज घराना इन्हीं के वंशज हैं – लेखक) ।
    2. बंगला विश्वकोष – पूर्व सिंध देश में जाट गणेर प्रभुत्व थी । अर्थात् सिंध देश में जाटों का राज था ।
    3. अरबी ग्रंथ सलासीलातुत तवारिख – भारत के नरेशों में जाट बल्हारा नरेश सर्वोच्च था । इसी सम्राट् से जाटों में बल्हारा गोत्र प्रचलित हुआ – लेखक ।
    4. स्कैंडनेविया की धार्मिक पुस्तक एड्डा – यहां के आदि निवासी जाट (जिट्स) पहले आर्य कहे जाते थे जो असीगढ़ के निवासी थे ।
    5. यात्री अल बेरूनी – इतिहासकार – मथुरा में वासुदेव से कंस की बहन से कृष्ण का जन्म हुआ । यह परिवार जाट था और गाय पालने का कार्य करता था ।
    6. लेखक राजा लक्ष्मणसिंह – यह प्रमाणित सत्य है कि भरतपुर के जाट कृष्ण के वंशज हैं ।
    इतिहास के संक्षिप्त अध्ययन से मेरा मानना है कि कालान्तर में यादव अपने को जाट कहलाये जिनमें एकजुट होकर लड़ने और काम करने की प्रवृत्ति थी और अहीर जाति का एक बड़ा भाग अपने को यादव कहने लगा । आज भी भारत में बहुत अहीर हैं जो अपने को यादव नहीं मानते और गवालावंशी मानते हैं ।
    7. मिस्टर नैसफिल्ड – The Word Jat is nothing more than modern Hindi Pronunciation of Yadu or Jadu the tribe in which Krishna was born. अर्थात् जाट कुछ और नहीं है बल्कि आधुनिक हिन्दी यादू-जादु शब्द का उच्चारण है, जिस कबीले में श्रीकृष्ण पैदा हुए।
    दूसरा बड़ा प्रमाण है कि कृष्ण जी के गांव नन्दगांव व वृन्दावन आज भी जाटों के गांव हैं । ये सबसे बड़ा भौगोलिक और सामाजिक प्रमाण है । (इस सच्चाई को लेखक ने स्वयं वहां जाकर ज्ञात किया ।)
    8. इतिहासकार डॉ० रणजीतसिंह – जाट तो उन योद्धाओं के वंशज हैं जो एक हाथ में रोटी और दूसरे हाथ में शत्रु का खून से सना हुआ मुण्ड थामते रहे ।
    9. इतिहासकार डॉ० धर्मचन्द्र विद्यालंकार – आज जाटों का दुर्भाग्य है कि सारे संसार की संस्कृति को झकझोर कर देने वाले जाट आज अपनी ही संस्कृति को भूल रहे हैं ।
    10. इतिहासकार डॉ० गिरीशचन्द्र द्विवेदी – मेरा निष्कर्ष है कि जाट संभवतः प्राचीन सिंध तथा पंजाब के वैदिक वंशज प्रसिद्ध लोकतान्त्रिक लोगों की संतान हैं । ये लोग महाभारत के युद्ध में भी विख्यात थे और आज भी हैं ।
    11. स्वामी दयानन्द महाराज आर्यसमाज के संस्थापक ने जाट को जाट देवता कहकर अपने प्रसिद्ध ग्रंथ सत्यार्थप्रकाश में सम्बोधन किया है । देवता का अर्थ है देनेवाला । उन्होंने कहा कि संसार में जाट जैसे पुरुष हों तो ठग रोने लग जाएं ।
    12. प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ तथा हिन्दू विश्वविद्यालय बनारस के संस्थापक महामहिम मदन मोहन मालवीय ने कहा – जाट जाति हमारे राष्ट्र की रीढ़ है । भारत माता को इस वीरजाति से बड़ी आशाएँ हैं । भारत का भविष्य जाट जाति पर निर्भर है ।
    13. दीनबन्धु सर छोटूराम ने कहा – हे ईश्वर, जब भी कभी मुझे दोबारा से इंसान जाति में जन्म दे तो मुझे इसी महान् जाट जाति के जाट के घर जन्म देना ।
    14. मुस्लिमों के पैगम्बर हजरत मुहम्मद साहब ने कहा – ये बहादुर जाट हवा का रुख देख लड़ाई का रुख पलट देते हैं । (सलमान सेनापतियों ने भी इनकी खूब प्रतिष्ठा की इसका वर्णन मुसलमानों की धर्मपुस्तक हदीस में भी है – लेखक) ।
    15. हिटलर (जो स्वयं एक जाट थे), ने कहा – मेरे शरीर में शुद्ध आर्य नस्ल का खून बहता है । (ये वही जाट थे जो वैदिक संस्कृति के स्वस्तिक चिन्ह (卐) को जर्मनी ले गये थे – लेखक)।
    16. कर्नल जेम्स टॉड राजस्थान इतिहास के रचयिता ।
    (i): उत्तरी भारत में आज जो जाट किसान खेती करते पाये जाते हैं ये उन्हीं जाटों के वंशज हैं जिन्होंने एक समय मध्य एशिया और यूरोप को हिलाकर रख दिया था ।
    (ii): राजस्थान में राजपूतों का राज आने से पहले जाटों का राज था ।
    (iii): युद्ध के मैदान में जाटों को अंग्रेज पराजित नहीं कर सके ।
    (iv): ईसा से 500 वर्ष पूर्व जाटों के नेता ओडिन ने स्कैण्डेनेविया में प्रवेश किया।
    (v): एक समय राजपूत जाटों को खिराज (टैक्स) देते थे ।
    17. यूनानी इतिहासकार हैरोडोटस ने लिखा है
    (i) There was no nation in the world equal to the jats in bravery provided they had unity अर्थात्- संसार में जाटों जैसा बहादुर कोई नहीं बशर्ते इनमें एकता हो । (यह इस प्रसिद्ध यूनानी इतिहासकार ने लगभग 2500 वर्ष पूर्व में कहा था । इन दो लाइनों में बहुत कुछ है । पाठक कृपया इसे फिर एक बार पढें । यह जाटों के लिए मूलमंत्र भी है – लेखक )
    (ii) जाट बहादुर रानी तोमरिश ने प्रशिया के महान राजा सायरस को धूल चटाई थी ।
    (iii) जाटों ने कभी निहत्थों पर वार नहीं किया ।
    18. महान् सम्राट् सिकन्दर जब जाटों के बार-बार आक्रमणों से तंग आकर वापिस लौटने लगे तो कहा- इन खतरनाक जाटों से बचो ।
    19. एक पम्पोनियस नाम के प्राचीन इतिहासकार ने कहा – जाट युद्ध तथा शत्रु की हत्या से प्यार करते हैं ।
    20. हमलावर तैमूरलंग ने कहा – जाट एक बहुत ही ताकतवर जाति है, शत्रु पर टिड्डियों की तरह टूट पड़ती है, इन्होंने मुसलमानों के हृदय में भय उत्पन्न कर दिया।
    21. हमलावर अहमदशाह अब्दाली ने कहा – जितनी बार मैंने भारत पर आक्रमण किया, पंजाब में खतरनाक जाटों ने मेरा मुकाबला किया । आगरा, मथुरा व भरतपुर के जाट तो नुकीले काटों की तरह हैं ।
    22. एक प्रसिद्ध अंग्रेज मि. नेशफील्ड ने कहा – जाट एक बुद्धिमान् और ईमानदार जाति है ।
    23. इतिहासकार सी.वी. वैद ने लिखा है – जाट जाति ने अपनी लड़ाकू प्रवृत्ति को अभी तक कायम रखा है । (जाटों को इस प्रवृत्ति को छोड़ना भी नहीं चाहिए, यही भविष्य में बुरे वक्त में काम भी आयेगी – लेखक)
    24. भारतीय इतिहासकार शिवदास गुप्ता – जाटों ने तिब्बत,यूनान, अरब, ईरान, तुर्कीस्तान, जर्मनी, साईबेरिया, स्कैण्डिनोविया, इंग्लैंड, ग्रीक, रोम व मिश्र आदि में कुशलता, दृढ़ता और साहस के साथ राज किया । और वहाँ की भूमि को विकासवादी उत्पादन के योग्य बनाया था । (प्राचीन भारत के उपनिवेश पत्रिका अंक 4.5 1976)
    25. महर्षि पाणिनि के धातुपाठ (अष्टाध्यायी) में – जट झट संघाते – अर्थात् जाट जल्दी से संघ बनाते हैं । (प्राचीनकाल में खेती व लड़ाई का कार्य अकेले व्यक्ति का कार्य नहीं था इसलिए यह जाटों का एक स्वाभाविक गुण बन गया – लेखक)
    26. चान्द्र व्याकरण में – अजयज्जट्टो हूणान् अर्थात् जाटों ने हूणों पर विजय पाई ।
    27. महर्षि यास्क – निरुक्त में – जागर्ति इति जाट्यम् – जो जागरूक होते हैं वे जाट कहलाते हैं ।
    जटायते इति जाट्यम् – जो जटांए रखते हैं वे जाट कहलाते हैं ।
    28. अंग्रेजी पुस्तक Rise of Islam – गणित में शून्य का प्रयोग जाट ही अरब से यूरोप लाये थे । यूरोप के स्पेन तथा इटली की संस्कृति मोर जाटों की देन थी ।
    29. अंग्रेजी पुस्तक Rise of Christianity – यूरोप के चर्च नियमों में जितने भी सुधार हुए वे सभी मोर जाटों के कथोलिक धर्म अपनाये जाने के बाद हुए, जैसे कि पहले विधवा को पुनः विवाह करने की अनुमति नहीं थी आदि-आदि । मोर जाटों को आज यूरोप में ‘मूर बोला जाता है – लेखक ।
    30. दूसरे विश्वयुद्ध में जर्मनी की हार पर जर्मन जनरल रोमेल ने कहा- काश, जाट सेना मेरे साथ होती । (वैसे जाट उनके साथ भी थे, लेकिन सहयोगी देशों की सेना की तुलना में बहुत कम थे
    – लेखक)
    31. सुप्रसिद्ध अंग्रेज योद्धा जनरल एफ.एस. यांग – जाट सच्चे क्षत्रिय हैं । ये बहादुरी के साथ-साथ सच्चे, ईमानदार और बात के धनी हैं ।
    32. महाराजा कृष्णसिंह भरतपुर नरेश ने सन् 1925 में पुष्कर में कहा – मुझे इस बात पर अभिमान है कि मेरा जन्म संसार की एक महान् और बहादुर जाति में हुआ ।
    33. महाराजा उदयभानुसिंह धोलपुर नरेश ने सन् 1930 में कहा- मुझे पूरा अभिमान है कि मेरा जन्म उस महान् जाट जाति में हुआ जो सदा बहादुर, उन्नत एवं उदार विचारों वाली है । मैं अपनी प्यारी जाति की जितनी भी सेवा करूँगा उतना ही मुझे सच्चा आनन्द आयेगा ।
    34. डॉ. विटरेशन ने कहा – जाटों में चालाकी और धूर्तता,योग्यता की अपेक्षा बहुत कम होती है ।
    35. मेजर जनरल सर जॉन स्टॉन (मणिपुर रजिडेंट) ने अपने एक जाट रक्षक के बारे में कहा था – ये जाट लोग पता नहीं किस मिट्टी से बने हैं, थकना तो जानते ही नहीं ।
    36. अंग्रेज हर प्रकार की कोशिशों के बावजूद चार महीने लड़ाई लड़कर भी भरतपुर को विजय नहीं कर पाये तो लार्ड लेकेक ने लिखा है – हमारी स्थिति यह है कि मार करने वाली सभी तोपें बेकार हो गई हैं और भारी गोलियाँ पूर्णतः समाप्त हो गई हैं । हमारे एक तिहाई अधिकारी व सैनिक मारे जा चुके हैं । जाटों को जीतना असम्भव लगता है ।
    उस समय वहाँ की जनता में यह दोहा गाया जाता था-
    यही भरतपुर दुर्ग है, दूसह दीह भयंकार |
    जहाँ जटन के छोकरे, दीह सुभट पछार ||
    37. बूंदी रियासत के महाकवि ने महाराजा सूरजमल के बारे में एक बार यह दोहा गाया था –
    सहयो भले ही जटनी जाय अरिष्ट अरिष्ट |
    जापर तस रविमल्ल हुवे आमेरन को इष्ट ||
    अर्थात् जाटनी की प्रसव पीड़ा बेकार नहीं गई, उसने ऐसे प्रतापी राजा तक को जन्म दिया जिसने आमेर व जयपुर वालों की भी रक्षा की (यह बात महाराजा सूरजमल के बारे में कही गई थी जब उन्होंने आमेर व जयपुर राजपूत राजाओं की रक्षा की) ।
    38. इतिहासकार डॉ० जे. एन. सरकार ने सूरजमल के बारे में लिखा है – यह जाटवंश का अफलातून राजा था ।
    39. इतिहासकार डी.सी. वर्मा:- महाराजा सूरजमल जाटों के प्लेटो थे।
    40. बादशाह आलमगीर द्वितीय ने महाराजा सूरजमल के बारे में अब्दाली को लिखा था – जाट जाति जो भारत में रहती है, वह और उसका राजा इतना शक्तिशाली हो गया है कि उसकी खुली खुलती है और बंधी बंधती है ।
    41. कर्नल अल्कोट – हमें यह कहने का अधिकार है कि 4000 ईसा पूर्व भारत से आने वाले जाटों ने ही मिश्र (इजिप्ट) का निर्माण किया ।
    42. यूरोपीयन इतिहासकार मि० टसीटस ने लिखा है – जर्मन लोगों को प्रातः उठकर स्नान करने की आदत जाटों ने डाली । घोड़ों की पूजा भी जाटों ने स्थानीय जर्मन लोगों को सिखलाई । घोड़ों की सवारी जाटों की मनपसंद सवारी है ।
    43. तैमूर लंग – घोड़े के बगैर जाट, बगैर शक्ति का हो जाता है । (हमें याद है आज से लगभग 50 वर्ष पहले तक हर गाँव में अनेक घोडे, घोड़ियाँ जाटों के घरों में होती थीं । अब भी पंजाब व हरयाणा में जाटों के अपने घोड़े पालने के फार्म हैं – लेखक)
    44. भारतीय सेना के ले० जनरल के. पी. कैण्डेय ने सन् 1971 के युद्ध के बाद कहा था – अगर जाट न होते तो फाजिल्का का भारत के मानचित्र में नामोनिशान न रहता ।
    45. इसी लड़ाई (सन् 1971) के बाद एक पाकिस्तानी मेजर जनरल ने कहा था – चौथी जाट बटालियन का आक्रमण भयंकर था जिसे रोकना उसकी सेना के बस की बात नहीं रही । (पूर्व कप्तान हवासिंह डागर गांव कमोद जिला भिवानी (हरयाणा) जो 4 बटालियन की इस लड़ाई में थे, ने बतलाया कि लड़ाई से पहले बटालियन कमाण्डर ने भरतपुर के जाटों का इतिहास दोहराया था जिसमें जाट मुगलों का सिहांसन और लाल किले के किवाड़ तक उखाड़ ले गये थे । पाकिस्तानी अफसर मेजर जनरल मुकीम खान पाकिस्तानी दसवें डिवीजन के कमांडर थे ।)
    46. भूतपूर्व राष्ट्रपति जाकिर हुसैन ने जाट सेण्टर बरेली में भाषण दिया – जाटों का इतिहास भारत का इतिहास है और जाट रेजिमेंट का इतिहास भारतीय सेना का इतिहास है । पश्चिम में फ्रांस से पूर्व में चीन तक ‘जाट बलवान्-जय भगवान्’ का रणघोष गूंजता रहा है ।
    47. विख्यात पत्रकार खुशवन्तसिंह ने लिखा है – (i) “The Jat was born worker and warrior. He tilled his land with his sword girded round his waist. He fought more battles for the defence for his homestead than other Khashtriyas” अर्थात् जाट जन्म से ही कर्मयोगी तथा लड़ाकू रहा है जो हल चलाते समय अपनी कमर से तलवार बांध कर रखता था। किसी भी अन्य क्षत्रिय से उसने मातृभूमि की ज्यादा रक्षा की है । (ii) पंचायती संस्था जाटों की देन है और हर जाटों का गांव एक छोटा गणतन्त्र है ।
    48. जब 25 दिसम्बर 1763 को जाट प्रतापी राजा सूरजमल शाहदरा में धोखे से मारे गये तो मुगलों को विश्वास ही नहीं हुआ और बादशाह शाहआलम द्वितीय ने कहा – जाट मरा तब जानिये जब तेरहवीं हो जाये । (यह बात विद्वान् कुर्क ने भी कही थी ।)
    49. टी.वी History Channel ने एक दिन द्वितीय विश्वयुद्ध के इतिहास को दोहराते हुए दिखलाया था कि जब सन् 1943 में फ्रांस पर जर्मनी का कब्जा था तो जुलाई 1943 में सहयोगी सेनाओं ने फ्रांस में जर्मन सेना पर जबरदस्त हमला बोल दिया तो जर्मन सेना के पैर उखड़ने लगे । एक जर्मन एरिया कमांडर ने अपने सैट से अपने बड़े अधिकारी को यह संदेश भेजा कि ज्यादा से ज्यादा गुट्ठा सैनिकों की टुकड़ियाँ भेजो । जब उसे यह मदद नहीं मिली तो वह अपनी गिरफ्तारी के डर में स्वास्तिक निशानवाले झण्डे को सेल्यूट करके स्वयं को गोली मार लेता है । याद रहे जर्मनी में जाटों को गुट्टा के उच्चारण से ही बोला जाता है । – (लेखक)
    50. एक बार अलाउद्दीन ने देहली के कोतवाल से कहा था – इन जाटों को नहीं छेड़ना चाहिए । ये बहादुर लोग ततैये के छत्ते की तरह हैं, एक बार छिड़ने पर पीछा नहीं छोड़ते हैं ।
    51. इतिहासकार मो० इलियट ने लिखा है – जाट वीर जाति सदैव से एकतंत्री शासन सत्ता की विरोधी रही है तथा ये प्रजातंत्री हैं ।
    52. संत कवि गरीबदास – जाट सोई पांचों झटकै, खासी मन ज्यों निशदिन अटकै । (जो पाँचों इन्द्रियों का दमन करके, बुरे संकल्पों से दूर रहकर भक्ति करे, वास्तव में जाट है ।
    53. महान् इतिहासकार कालिकारंजन कानूनगो –
    (क) एक जाट वही करता है जो वह ठीक समझता है । (इसी कारण जाट अधिकारियों को अपने उच्च अधिकारियों से अनबन का सामना करना पड़ता है – लेखक) (ख) जाट एक ऐसी जाति है जो इतनी अधिक व्यापक और संख्या की दृष्टि से इतनी अधिक है कि उसे एक राष्ट्र की संज्ञा प्रदान की जा सकती है । (ग) ऐतिहासिक काल से जाट बिरादरी हिन्दू समाज के अत्याचारों से भागकर निकलने वाले लोगों को शरण देती आई, उसने दलितों और अछूतों को ऊपर उठाया है । उनको समाज में सम्मानित स्थान प्रदान कराया है। (लेकिन ब्राह्मणवाद तो यह प्रचार करता रहा कि शूद्र वर्ग का शोषण जाटों ने किया – लेखक) (घ) हिन्दुओं की तीनों बड़ी जातियों में जाट कौम वर्तमान में सबसे बेहतर पुराने आर्य हैं।
    54. महान् इतिहासकार ठाकुर देशराज – जाटों को मुगलों ने परखा, पठानों ने इनकी चासनी ली, अंग्रेजों ने पैंतरे देखे और इन्होंने फ्रांस एवं जर्मनी की भूमि पर बाहदुरी दिखाकर सिद्ध किया कि जाट महान् क्षत्रिय हैं ।
    55. पं० इन्द्र विद्यावाचस्पति- जाटों को प्रेम से वश में करना जैसा सरल है, आँख दिखाकर दबाना उतना ही कठिन है ।
    56. कवि शिवकुमार प्रेमी –
    जाट जाट को मारता यही है भारी खोट ||
    ये सारे मिल जायें तो अजेय इनका कोट ||
    (कोट का अर्थ किला)
    इसीलिए तो कहा जाता है – जाटड़ा और काटड़ा अपने को मारता है । (लेखक)
    57. विद्वान् विलियम क्रूक –
    (i) जाट विभिन्न धार्मिक संगठनों व मतों के अनुयायी होने पर भी जातीय अभिमान से ओतप्रोत हैं । भूमि के सफल जोता, क्रान्तिकारी, मेहनती जमीदार तथा युद्ध योद्धा हैं ।
    (इसीलिए तो जाटों या जट्टों के लड़के अपनी गाड़ियों के पीछे लिखवाते हैं – ‘जट्ट दी गड्डी’, ‘जाट की सवारी’ ‘जहाँ जाट वहाँ ठाठ’, ‘जाट के ठाठ’ तथा ‘Jat Boy’ आदि-आदि – लेखक ।
    (ii) स्पेन, गाल, जटलैण्ड, स्काटलैण्ड और रोम पर जाटों ने फतेह कर बस्तियां बसाई ।
    58. विद्वान् ए.एच. बिगले – जाट शब्द की व्याख्या करने की आवश्यकता नहीं है । यह ऋग्वेद, पुराण और मनुस्मृति आदि अत्यन्त प्राचीन ग्रन्थों से स्वतः सिद्ध है । यह तो वह वृक्ष है जिससे समय-समय पर जातियों की उत्पनि हुई ।
    59. विद्वान् कनिंघम – प्रायः देखा गया है कि जाट के मुकाबले राजपूत विलासप्रिय, भूस्वामी गुजर और मीणा सुस्त अथवा गरीब, कास्तकार तथा पशुपालन के स्वाभाविक शोकीन, पशु चराने में सिद्धहस्त हैं, जबकि जाट मेहनती जमीदार तथा पशुपालक हैं ।
    60. विख्यात इतिहासकार यदुनाथ सरकार – जाट समाज में जाटनियां परिश्रम करना अपना राष्ट्रीय धर्म समझती हैं, इसलिए वे सदैव जाटों के साथ कन्धे से कन्धा मिलाकर कार्य करती हैं । वे आलसी जीवन के प्रति मोह नहीं रखती ।
    61. प्राचीन इतिहासकार मनूची – जाटनियां राजनैतिक रंगमंच पर समान रूप से उत्तरदायित्व निभाती हैं । खेत में व रणक्षेत्र में अपने पति का साथ देती हैं और आपातकाल के समय अपने धर्म की रक्षा में प्रोणोर्त्सग (प्राणत्याग) करना अपना पवित्र धर्म समझती हैं ।
    62. जैक्मो फ्रांसी इतिहासकार व यात्री लिखता है – महाराजा रणजीतसिंह पहला भारतीय है जो जिज्ञासावृत्ति में सम्पूर्ण राजाओं से बढ़ाचढ़ा है । वह इतना बड़ा जिज्ञासु कहा जाना चाहिए कि मानो अपनी सम्पूर्ण जाति की उदासीनता को वह पूरा करता है । वह असीम साहसी शूरवीर है । उसकी बातचीत से सदा भय सा लगता है। उन्होंने अपनी किसी विजययात्रा में कहीं भी निर्दयता का व्यवहार नहीं किया ।
    63. यूरोपीय यात्री प्रिन्सेप – एक अकले आदमी द्वारा इतना विशाल राज्य इतने कम अत्याचारों से कभी स्थापित नहीं किया गया । अद्भुत वीरता, धीरता, शूरता में समकालीन सभी भारतीय नरेशों के शिरमौर थे । दूसरे शब्दों में पंजाबकेसरी महाराजा रणजीतसिंह भारत का नैपोलियन था।
    64. महान् इतिहासकार उपेन्द्रनाथ शर्मा – जाट जाति करोड़ों की संख्या में प्रगितिशील उत्पादक और राष्ट्ररक्षक सैनिक के रूप में विशाल भूखण्ड पर बसी हुई है। इनकी उत्पदाक भूमि स्वयं एक विशाल राष्ट्र का प्रतीक है ।
    65. विद्वान् सर डारलिंग – ‘‘सारे भारत में जाटों से अच्छी ऐसी कोई जाति नहीं है जिसके सदस्य एक साथ कर्मठ किसान और जीवंत जवान हों।’’
    66. महान् इतिहासकार सर हर्बट रिसले – जाट और राजपूत ही वैदिक आर्यों के वास्तविक उत्तराधिकारी हैं ।
    67. फील्ड मार्शल माउंट गुमरी – “Jat is true soldier. I will be happy to die with dignity amongst Jats Regt. My soul will be bless with peace.” अर्थात् ‘‘जाट एक सच्चा सैनिक है । मुझे खुशी होगी यदि मैं जाटों के बीच रहकर इज्जत से मर जांऊ ताकि मेरी आत्मा को शान्ति मिल सके ।”
    68. अंग्रेज प्रमुख जनरल ओचिनलैक (बाद में फील्ड मार्शल) – ‘‘If things looked back and danger threatened I would ask nothing better than to have Jats beside me in the face of the enemy” अर्थात “हालात बिगड़ते हैं और खतरा आता है तो जाटों को साथ रखने से बेहतर और कुछ नहीं होगा ताकि मैं दुश्मन से लड़ सकूं ।”
    69. क्रान्तिदर्शी राजा महेन्द्रप्रताप – “हमारी जाति बहादुर है । देश के लिए समर्पित कौम है । चाहे खेत हो या सीमा । धरतीपुत्र जाटों पर मुझे नाज़ है ।”
    70. पं. जवाहरलाल नेहरू – ‘‘दिल्ली के आसपास चारों ओर जाट एक ऐसी महान् बहादुर कौम बसती है, वह यदि आपस में मिल जाये और चाहे तो दिल्ली पर कब्जा कर सकती है ।”
    (यह पंडित नेहरू ने सन् 1947 से पहले कहा था, लेकिन पंडित जी देश आजाद होने के बाद जाटों को भूल गये और उन्होंने अपने जीते जी कभी किसी हिन्दू जाट को केन्द्रीय सरकार में किसी भी मंत्री पद पर फटकने नहीं दिया – लेखक)
    71. स्वामी ओमानन्द सरस्वती तथा वेदव्रत्त शास्त्री – (देशभक्तों के बलिदान ग्रंथ में) – ‘‘ईरान से लेकर इलाहाबाद तक जाटों के वीरत्व व बलिदानों का इतिहास चप्पे-चप्पे पर बिखरा पड़ा है । क्या कभी कोई माई का लाल इनका संग्रह कर पाएगा ? काश ! जाट तलवार की तरह कलम का भी धनी होता।”
    72. डॉ० बी.एस. दहिया ने अपनी पुस्तक Jats- The Ancient Rulers अर्थात्- ‘‘जाट प्राचीन शासक हैं’’ में लिखा है -‘‘There is no battle worth its name in The World History where the Jat Blood did not irrigate The Mother Earth’’ अर्थात्- ‘‘विश्व में ऐसी कोई भी लड़ाई नहीं हुई, जिसमें जाटों ने अपनी मातृभूमि के लिए खून न बहाया हो ।”
    (काश ! यह देश और इस देश के इतिहासकार इसे समझ पाते- लेखक)
    73. विद्वान् इतिहासकार डॉ० धर्मकीर्ति –
    (i) आगरा के ताजमहल और लाल किले को लूट ले जाना, सिकन्दरा में अकबर की कब्र के भवन और एत्माद्दौला की कब्र के ऐतिहासिक भवन में भूसा भरकर आग लगा देना, जिसके परिणामस्वरूप इन भवनों के काले पड़े हुए पत्थर आज भी (बौद्ध) जाटों के शौर्य की वीरगाथा गा रहे हैं ।
    (ii) “वर्तमान जाट जाति को इस बात का गर्व से अनुभव करना चाहिए कि उनके पूर्वज बौद्ध नरेश असुवर्मा नेपाल के प्रसिद्ध राजा हो चुके हैं।” (इन्हीं विद्वान् ने सम्राट् कनिष्क से लेकर सम्राट् विजयनाग तक 17 बौद्ध जाट राजाओं का उनके काल तथा संसार में उनके राज्य क्षेत्र का वर्णन किया है – लेखक)
    74. विद्वान् मोरेरीसन – “The Jats and Rajputs of the Doab are descendents of the late Aryans” अर्थात् दोआबा के जाट और राजपूत आर्यों के वंशज हैं।
    75. विद्वान् नेशफिल्ड – “जाटों से राजपूत हो सकते हैं परन्तु राजपूतों से जाट कभी नहीं हो सकते हैं ।”
    76. प्रो० मैक्समूलर – “सारे भूमण्डल पर जाट रहते हैं और जर्मनी इन्हीं आर्य वीरों की भूमि है ।”
    77. इतिहासकार बलिदबिन अब्दुल मलिक – “अरब की हिफाजत के लिए हमने जाटों का सहारा लिया ।”
    78. सुल्तान मोहम्मद – “जाट कौम का डर मेरे ख्वाब में भी रहता है । इन्होंने मुझे कभी खिराज नहीं दिया ।”
    79. प्रो० बी. एस. ढिल्लों – “मोहम्मद गजनी ने जाटों को खुश करने के लिए साहू जाटों से अपनी बहिन का विवाह किया था ।” (पुस्तक – ‘हिस्ट्री एण्ड स्टडी ऑफ दी जाट’- मूलस्रोत – सर ए. कनिंघम) ।
    80. कैप्टन फॉलकॉन – (i) “The Jats are throughly independent in character and assert personal and indivisual freedom as against communal or tribal control more strongly than other people.” अर्थात् जाट चारित्रिक रूप से पूर्णतया आजाद होते हैं जो निजी तौर पर दूसरों की तुलना में साम्प्रदायिक विरोधी होते हैं । (ii) गोत्र प्रथा को कैनेडा, अमरीका व इंग्लैण्ड में बसने वाले जाट भी मानते हैं ।
    81. प्रो० पी.टी. ग्रीव – “जाट केवल भगवान के सामने ही अपने घुटनों को झुकाता है क्योंकि वह नेता होता है, अनुयायी नहीं ।”
    82. विद्वान् टॉलबोट राईस – “याद रहे चीन ने 1500 मील लम्बी और 35 फिट ऊंची दीवार जाटों से बचने के लिए ही बनाई थी ।”
    83. इतिहासकार जे.सी. मोर – “जाट वास्तव में हिन्दुओं की जाति नहीं है, यह एक नस्ल है।”
    84. विद्वान् डॉ० वाडिल – “गुट, गोट, गुट्टी, गुट्टा, गोटी और गोथ आदि जाटों के नाम के ही शाब्दिक उच्चारण के विभिन्न रूप हैं, जो मध्यपूर्व में महान् शासक हुए हैं ।”
    85. विद्वान् जनरल सर मैकमन – (i) जाट बहुत ताकतवर और कठिन परिश्रमी किसान हैं जो हाथ में हल लेकर पैदा होता है । (ii) जाटों ने हमेशा अपनी लड़ने की योग्यता को कायम रखा, इसी कारण प्रथम विश्वयुद्ध में केवल जाटों की छटी रेजीमेंट को रॉयल की उपाधि मिली ।
    86. विद्वान् लेनेन पूले – “गजनी ने अपने कमांडर नियालटगेन को पंजाब में तैनात किया तो जाट उसका सिर काट ले गए और वही सिर उन्होंने गजनी को चांदी के सैकड़ों-हजारों सिक्कों के बदले वापिस किया ।”
    87. विद्वान् ब्री० सर साईक्स – “आठवीं सदी के आरम्भ में बसरा-बगदाद की लड़ाई में जाटों ने खलीफा को हराया तो वहां के प्रसिद्ध जाट कवि टाबारी ने पर्सियन भाषा में इस प्रकार गाया-
    (अंग्रेजी से हिन्दी में अनुवाद)
    ओह ! बगदाद के लोग मर गए,
    तुम्हारा साहस भी हमेशा के लिए ।
    हम जाटों ने तुम्हें हराया,
    हम तुम्हें लड़ने के लिए मैदान में घसीट लाए ।
    हम जाट तुम्हें ऐसे खींच लाए,
    जैसे पशुओं के झुंड से कमजोर पशु को ।
    88. विद्वान् मेजर बरस्टो – “जाटों की विशेषता है कि वे अपने गोत्र में शादी नहीं करते चाहे वह हिन्दू जाट हो या पंजाबी । क्योंकि जाट इसे व्यभिचार मानते हैं ।”
    89. डॉ० रिस्ले – “When Jat runs wild it needs God to hold him back अर्थात् यदि जाट बिगड़ जाए तो उसे भगवान ही काबू कर सकता है ।”
    90. रूसी इतिहासकार के.एम. सेफकुदरात ने अगस्त 1964 में मास्को में एक भाषण दिया जो भारतीय समाचार पत्रों में भी छपा था और उसने कहा “I studied the histories of various sects before I visited India in 1957. It was found that Jats live in an area extending from India to Central Asia and Central Europe. They are known by different names in different countries and they speak different languages but they are all one as regards their origin.”
    अर्थात् “मैंने 1967 से पहले भारत की यात्रा करने से पहले इतिहास के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन किया और पाया कि जाट भारत से मध्य एशिया और मध्य यूरोप तक रहते हैं वे अलग-अलग देशों में अलग-अलग नामों से जाने जाते हैं और वे भाषाएं भी अलग बोलते हैं । लेकिन उन सभी का निकास एक ही है ।” इसलिए जाट कौम एक ग्लोबल नस्ल है ।
    91. इतिहासकार डॉ० सुखीराम रावत (पलवल) – “राजा गज ने गजनी के पास वर्तमान में अफगानिस्तान में बामियान के पास बुद्ध का विश्वप्रसिद्ध स्तूप बनवाया जिसे तालिबानियों ने सन् 2001 में संसार के सभी देशों की परवाह न करते हुए डाइनामाइट से उड़वा दिया ।”
    92. इतिहासकार महीपाल आर्य (मतलौडा) – “चित्तौड़, उदयपुर, नेपाल तथा महाराष्ट्र में गहलौत जाटों का राज था । बप्पारावल, महाराणा प्रताप, छत्रपति शिवाजी तथा नेपाल के राणावंश नरेश सभी जाट योद्धा थे ।”
    93. चौ० ओमप्रकाश पत्रकार (रोहतक) – “मकौड़ा, घोड़ा और जठोड़ा पकड़ने पर कभी छोड़ते नहीं ।”
    94. चौ० ईश्वरसिंह गहलोत (विख्यात जाट गायक) – “आज भी काबुल चिल्ला रहा है, बंद करो फाटक रणजीत आ रहा है ।”
    95. पंजाब केसरी पत्र ने अपने धारावाहिक सम्पादकीय दिनांक 25.09.2002 को झूठा इतिहास – झूठे लोग में लिखा – “जाटों का इतिहास देख लें ! बड़ा ही गौरवपूर्ण इतिहास है ! इतना गौरवपूर्ण कि वैसा इतिहास खोजना मुश्किल हो जाए । इतिहासकारों
    ने इसे इतना तरोड़-मरोड़ कर लिखा है कि जिसे शब्दों में व्यक्त करना मुश्किल है । क्या यह सब महज इत्तिफाक है ?”
    (यह इतिफाक नहीं था, जाटों के इतिहास के साथ इसलिए हुआ कि पहले जाट बौद्धधर्मी थे और भारत का ब्राह्मणवाद बौद्ध धर्म का दुश्मन रहा जो स्वयं इतिहासकार थे, इसलिए ऐसा करना ही था । क्योंकि यदि भारत का सच्चा इतिहास सामने आयेगा तो ऐसे लोगों का गर्व-खर्व होना निश्चित है – लेखक) ।
    96. बी.बी.सी. लंदन (जयपुर संवाददाता) “जाट जब अपने असली रूप में आ जाये तो वह हिमालय को भी चीर सकता है । हिन्दमहासागर को भी पार कर सकता है । थार के रेगिस्तान में बसे करोड़ों धरतीपुत्रों ने रैली को रैला बनाकर हिन्दुस्तान की सत्ता को थर्रा दिया था और आज 20 अक्तूबर 1999 को राजस्थान सरकार को जाटों को ओ. बी. सी. का आरक्षण देना ही पड़ा ।” (क्या शेष भारत के जाट, जाट नहीं हैं ? रोजाना रैलियों में दौड़ते भागते रहते हैं अपने हक के लिए (आरक्षण के लिए) नहीं लड़ सकते हैं ? – लेखक)
    97. राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुधंरा राजे सिधिंया ने दिनांक 07.05.2004 को हांसी में संसद चुनाव में वोट मांगते हुए कहा- “मैं बहादुर जाटों की बहू हूँ इसलिए उनसे वोट मांगने का मेरा अधिकार है ।”
    98. गुर्जर इतिहास (पेज नं० 3, लेखक राणा अली हसन चौहान, पाकिस्तान) – “जाट शुद्ध आर्यों की जाति है ।”
    99. विख्यात फिल्म अभिनेता धर्मेन्द्र ने सन् 2005 में बिजनौर (उत्तर प्रदेश) की एक जनसभा में कहा- “मैं जाट जाति में पैदा होकर गौरव का अनुभव करता हूँ ।”
    100. लेखक – “जाट इतिहास कोई भंगेड़ियों, भगोड़ों व भाड़े का इतिहास नहीं, यह सच्चे वीरों का इतिहास है।” इन टिप्पणियों से यह स्पष्ट हो जाता है कि जाट जाति का चरित्र कैसा रहा है तथा यह कितनी महान् जाति रही ।
    इसलिए गर्व से कहो हम जाट हैं

    1. नम्स्कार सिर मेरी गोत्र है बमोठा या भमोठा ओर. मेरे मा पापा अब न्ही है ओर मैने पता किया तो बताया गया कि आपकि गोउत्र वाले रजस्थान मे है पर मेको आज तक कोइ न्हि मिला ओर ना आप्की इस लिस्ट मे नाम भि न्हि है मेरि गोत्र का आप ब्ता सकते है कुछ.

      मेरा नुम्बर ये है 9575869784/7987448304

  2. मुझे गर्व है… मैं जाट जाति में , ऐतिहासिक गाँव धनाना में घणघस गोत्र में पैदा हुआ ।
    ” चौधरी सर छोटू राम अमर रहे ”
    जाट एकता जिंदाबाद-जिन्दाबाद-जिंदाबाद

  3. मे जाती जाट गोञ मंगावा है मेरी मुजे मंगावा गौञ की कुल देवी के बारे मे जानना चाहता हू कुल देवी का नाम व मन्दीर के बारे मे मालूम हो तो बताना

  4. मुझे अपने आप पर गर्व महसूस करता हु कि मेरा इस महान जाति में जन्म हुआ है।मैं भगवान से यही पार्थना करता हु कि मुझे हर बार जाट जाति में ही जन्म दे। जय जाट जय हरियाणा। जय भारत।

  5. मुझे जाट जाति पर गर्व है। मै जाट हू । मुझे फिर जन्म मीले तो ईसी क्षत्रिय कोम मे मिले। मेरा जाट कोम से निवेदन है कि सभी ऐक हौगे तभी हमारा विकास औऱ उत्थान सम्भव हैं। जय जाट । जय भारत ।

  6. मुझे भी जाट होने पर गर्व है। मैं सर्वांग गोत्र का जाट हूं। लेकिन मेरा गोत्र इस लिस्ट में नहीं है। मेरा गांव सारंगपुर दिल्ली में है। सारंग ओर सरावगी गोत्र तो है। ऐसा क्यों है।

  7. 8432291458 जाट समाज ने एक अलग पहचान बनाई है जेसे फोज। पुलिस विभाग में नेटवर्किंग मार्केट में किर्केट कब्बडी में राजनीति हर बड़े बड़े जगह पर कामयाबी पाई है
    जय जाट समाज
    जय श्री तेजाजी महाराज की जय

  8. मुझे गर्व है कि मैं जाट हु मेरी गोऋ रियाड़ है जो इस लिस्ट मे है पर मेरे कुलदेवता (घर का भेरूजी )का पता नहीं लग रहा है मेरे सारे प्रयास विफल रहै है अगर आपको पता हो जाटो मैं रियाड़ गोऋ के भेरूजी तो बताना प्लीज़
    उदयलालजाट गोऋ रियाड़ गांव नंगा जी का खेड़ा (फलासिया) सांवरिया जी जिला चित्तोड़ गढ़ राजस्थान 9413782042

    1. भाई आपके वंश बड़वा जी की पुष्तक में देखो आपकी नख ,खाफ कुलदेवी, सती ,कुल भेरू , आपकी उत्त्पत्ति आदि जानकारी एकदम सत्य मिलेगी जो कही भी नही मिल सकती

  9. Hi Friends,
    Recently came to know about a Jat Ashram in Vrindavan founded by Jat, named as Nirbhaya Ashram.
    In an bad shape, as need money to renovate, I have taken the responsibility to collect sufficient fund to Renovate the one and only Jat Ashram in Vrindavan on Parikrama Marg.
    Other community have beautiful Ashram, so now we have to ensure for renovation.
    My contact no. is 88821-52577
    Queries are welcome.
    Awaiting the response.

  10. मुझे गर्व है मैं जाट हूँ व अहलावत गोत्र में पैदा हुआ । मैं हरियाणा के अग्रणी गाँव खरकड़ा ज़िला रोहतक का निवासी हूँ ।यदि किसी भाई को मेरे कुल देवता का पता चले तो ज़रूर बताना ।
    चौधरी छोटू राम ज़िंदाबाद
    जय जवान जय किसान ।जय जाट !!!


  11. November 17, 2018 at 10:53 pm
    Your comment is awaiting moderation.

    मुझे गर्व है मैं जाट हूँ व अहलावत गोत्र में पैदा हुआ । मैं हरियाणा के अग्रणी गाँव खरकड़ा ज़िला रोहतक का निवासी हूँ ।यदि किसी भाई को मेरे कुल देवता का पता चले तो ज़रूर बताना ।
    चौधरी छोटू राम ज़िंदाबाद
    जय जवान जय किसान ।जय जाट !!!

  12. भाई मैं मदीना गांव से हुँ गोहाना तहसील से मैं मलिक हुं मुझे गर्व है जाट होने पर भगवान से प्रार्थना करता हूं अगले जन्म में भी मुझे जाट समुदाय में ही पैदा करना इस लिस्ट में मलिक गोत्र का कहीं जिक्र नहीं किया गया है मलिक गोत्र कि भी जानकारी देने कि कृपया करना । जय जाट जाट महान

  13. भाई जी मैं ये जानना चाहती हूँ कि तल्लै गोत्र जाटों में होता है या कलीलों में? मैंने एक जाट परिवार में ये गोत्र सुना है, और कहीं नहीं सुना। कृपया बताने की कृपा करें।

  14. मेरा नाम Arun Roy हैं में बिहार से हूँ में जाट हूँ मेरा गोऋ हैं उदेगा हैं मेरा ससुराल का गोऋ हैं महलौत हैं और बिहार कम जनसंख्या में है मिला जुला कर 1 लाख होगा

प्रातिक्रिया दे

Top

This site is protected by wp-copyrightpro.com