You are here
Home > Community wise Kuldevi > Gotra wise Kuldevi List of Pareek Community पारीक समाज की कुलदेवियाँ

Gotra wise Kuldevi List of Pareek Community पारीक समाज की कुलदेवियाँ

Gotra wise Kuldevi List of Pareek Samaj : पारीक समाज की गोत्र के अनुसार कुलदेवियों का विवरण इस प्रकार है –

kuldevi-list-of-pareek-samaj



   Kuldevi List of Pareek Samaj पारीक समाज के गोत्र एवं कुलदेवियां 

सं.कुलदेवीअवटंक (सामाजिक गोत्र)

1.

आदसगत माता (AadsagatMata)

वीणासरा (वीणा सट्टा)।

2.

अम्बवाय माता (Ambwai Mata)दिक्खत।

3.

असनोत्तरी माता (AsnottariMata)दाख, रहटा।

4.

करणी माता   (Karni Mata)सोतड़ो।

5.

कालिका माता    (Kalika Mata)दुरजाट (दुरगाट), बिडज़ारा (बिणजारा), पुरपाट।

6.

कुमारी माता    (Kumari Mata)अजमेरा, कुलत्था, सोतड़ो।

7.

कुंजलमाता        (Kunjal Mata)दुजारया, सकराणा, लापस्या, बुढाण्या, काथड़ा।

8.

केसरी माता         (Kesri Mata)श्रृंगार।

9.

चतुर्मुखी माता (Chaturmukhi)मलगोता, कसूमीवाल, कीलणवा।

10.

चामुण्डामाता  (Chamunda)हलहर्या, भ्रमाणा, जांगलवा, काहल, डावड़ा।

11.

जाखण माता    (Jakhan Mata)कोथलिया, पोम, हुण्डिला, पंचोली, सतमुड़ा, कौशिक, भट्ट, मुडक्या (खटवड़), तामड़ा, अगनोती।

12.

जीणमाता       (Jeen Mata)पुलसाण्या(पलसाण्या), आलसरा, डसाण्या, लडणवा, कामला, कमलो, भाकला(बेकला), दुजार्या(दिजार्या), बंभोर्या(भंभार्या), दुईवाल,  कुशाट (कुशलटा), भरगोड़ा, शाण्डिल्य, जोड़ोदा, बुराट, सुचंगा, सुरेड़ा।

13.

तारा माता             (Tara Mata)पदमाण्या।

14.

तिपराय माता      (Tiprai Mata)जेरठा, पापड़।

15.

नानणमाता        (Nanan Mata)केसोट|

16.

पाढायमाता   (Padhai Mata)गोलवाल, मेड़तवाल, ओजाया, ठकुरा, घुघाट, अगरोटा, अहोरा,  बुलबुला, खटोड़।

17.

बींजलमाता  (Binjal Mata)बिलसरा(विणसरा), बावर, वय्या।

18.

भद्रकालीमाता (Bhadrakali)भारगो, पाठक, वरणा।

19.

लहण (भंवाल) माता  (Lahan/Bhunwal Mata)गारग।

20.

सच्चियायमाता  (Sachchiyay Mata)पिण्डताण, गोगड़ा, भण्डारी, भुरभुरा, बामणा, नगलाण्या, पाईवाल, बामण्या, संजोगी, गलवा, गणहड़ा, कीवसाण्या।

21.

समराय माता    (Samrai Mata)ओड़ीटा, रजलाणा, सोती, दहगोत, सुमनत्या, लाछणावा।

22.

सुद्रासन माता (Sudrasan Mata)मलबड़ जोशी, वागुंड्या, मलवड़ त्रिपाठी।

23.

सुरसाय माता     (Sursai Mata)जहेला, जावल, दुलीचा।



Your contribution आपका योगदान  –

जिन कुलदेवियों व गोत्रों के नाम इस विवरण में नहीं हैं उन्हें शामिल करने हेतु नीचे दिए कमेण्ट बॉक्स में  विवरण आमन्त्रित है। (गोत्र : कुलदेवी का नाम )। इस Page पर कृपया इसी समाज से जुड़े विवरण लिखें। पारीक समाज से सम्बन्धित अन्य विवरण अथवा अपना मौलिक लेख  Submit करने के लिए Submit Your Article पर Click करें।आपका लेख इस Blog पर प्रकाशित किया जायेगा । कृपया अपने समाज से जुड़े लेख इस Blog पर उपलब्ध करवाकर अपने समाज की जानकारियों अथवा इतिहास व कथा आदि का प्रसार करने में सहयोग प्रदान करें।

Sanjay Sharma
Sanjay Sharma is the founder and author of Mission Kuldevi inspired by his father Dr. Ramkumar Dadhich. Mission Kuldevi is trying to get information of all Kuldevi and Kuldevta of all societies on one platform.

37 thoughts on “Gotra wise Kuldevi List of Pareek Community पारीक समाज की कुलदेवियाँ

    1. Hemant Ji,
      Samrai Mata or Samreshvari Mata “Shakambhari Mata” ke hi Naam h. Shakambhari Mata ‘Sambhar’ me virajmanh is karan unko ‘Sambharai’ Kaha jane laga.. Bad me yahi ‘Sambhrai’ apbhransh hokar ‘Samrai’ban gaya.. Isi tarah ‘Sambhareshwari’ ka apbhransh hokar ‘samreshwari’ bana.
      …. Baad me Samajo ke logon me kisi ne unhe Shakambhari likha to kisi ne Samrai to kisi ne Samreshwari.. Aap devi ko inme se kisi bhi naam se pujte ho pr ye devi Shakambhari hi hai. Samrai ya Samreshwari likhne ka karan ye batane se hai ki ‘Saambhar me virajman Shakambhari Mata’

  1. सामाजिक व्यवस्था में.प्रत्येक ब्राह्मण समाज का इतिहास लिपिबद्ध किया जाता रहा है तथा इस काम को करने वाले को सामाजिक कुलगुरु का दर्जा दिया गया है, समाज के गौञादि, कुलदेवी की जानकारी उनसे सम्पर्क कर प्राप्त की जा सकती है। यह सामाजिक व्यवस्था संरक्षण के अभाव में समाप्ति के कगार पर है, जिसकी सारी जिम्मेदारी हमारी है।

  2. भाई जानकारी गलत मत दो पहले पता करो फिर ज्ञान बाटो, केसोट पुरोहितों की कुलदेवी का नाम श्री नंदराय माता है जिनका मंदिर पुष्कर के पास नांद गांव में पहाड़ी पर स्थित है।

    1. भाई गजेंद्र जी ! नंदराय माता को ही नानण माता भी कहते हैं। ‘नांद’ का ही अपभ्रंश ‘नान’ है इसलिए यहाँ की देवी को स्थानीय भाषा में नानण माता कहते हैं।

प्रातिक्रिया दे

Top

This site is protected by wp-copyrightpro.com