You are here
Home > व्रत कथा

श्री मंगलवार व्रत कथा, व्रत विधि व आरती

MANGALVAR VRAT KATHA : मंगलवार व्रत कथा in Hindi मंगलवार के व्रत की विधि विधि : सर्व सुख, रक्त विकार, राज्य सम्मान तथा पुत्र की प्राप्ति के लिए मंगलवार का व्रत उत्तम है। इस व्रत में गेहूँ और गुड़ का ही भोजन करना चाहिए। भोजन दिन रात में एक बार ही ग्रहण करना चाहिए। व्रत…

सोम प्रदोष व्रत कथा

प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को “प्रदोष” कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है। SOM PRADOSH VRAT KATHA : सोम प्रदोष व्रत कथा पूर्वकाल में एक ब्राह्मणी अपने पति की मृत्यु होने के पश्चात् निराधार होकर भिक्षा मांगने…

श्री सोलह सोमवार व्रत कथा

॥ सोलह सोमवार व्रत कथा ॥  कथा : मृत्यु लोक में विवाह करने की इच्छा करके एक समय श्री भूतनाथ महादेव जी माता पार्वती जी के साथ पधारे वहां वे भ्रमण करते-करते विदर्भ देशांतर्गत अमरावती नाम की अतीव रमणीक नगरी में पहुँचे। अमरावती नगरी अमरपुरी के सदृश सब प्रकार के सुखों से परिपूर्ण थी। उसमें वहां…

श्री सोमवार व्रत कथा, व्रत विधि व आरती

  ॥ श्री सोमवार व्रत कथा ॥ व्रत विधि विधि : सोमवार का व्रत साधारणतया दिन के तीसरे पहर तक होता है। व्रत में फलाहार या पारण का कोई खास नियम नहीं है किंतु यह आवश्यक है कि दिन रात में केवल एक समय भोजन करें। सोमवार के व्रत में शिवजी पार्वती जी का पूजन करना…

श्री रविवार व्रत कथा, व्रत विधि व आरती

 ||श्री रविवार (इतवार) व्रत कथा|| रविवार व्रतविधि: विधि: सर्व मनोकामनाओं की पूर्ति हेतु रविवार का व्रत श्रेष्ठ है। इस व्रत की विधि इस प्रकार है। प्रातः काल स्नानादि से निवृत्त हो स्वच्छ वस्त्र धारण करें। शांतचित्त होकर परमात्मा का स्मरण करें। भोजन एक समय से अधिक नहीं करना चाहिए। भोजन तथा फलाहार सूर्य के प्रकाश…

पूर्णिमा व्रत कथा

पूर्णिमा व्रत उत्तरी भारत में जिस दिन पुरा चाँद होता है उसे पूर्णिमा कहते हैं और दक्षिणी भारत में जिस दिन पूरा चाँद होता है उसे पूर्णामी कहते हैं। दक्षिणी भारत में इस दिन का उपवास पूर्णामी व्रतम के नाम से जाना जाता है।  अथ पूर्णमासी व्रत कथा   द्वापर युग में एक समय की बात है…

सन्तान सप्तमी व्रत कथा

SANTAN SAPTAMI VRAT KATHA : सन्तान सप्तमी व्रत कथा in Hindi संतान सप्तमी व्रत भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष कि सप्तमी तिथि के दिन किया जाता है. यह व्रत विशेष रुप से संतान प्राप्ति, संतान रक्षा और संतान की उन्नति के लिये किया जाता है. इस व्रत में भगवान शिव एवं माता गौरी की पूजा का…

श्री सत्य नारायण व्रत कथा

SHRI SATYANARAYAN VRAT KATHA : श्री सत्य नारायण व्रत कथा IN HINDI पहला अध्याय  श्रीव्यास जी ने कहा – एक समय नैमिषारण्य तीर्थ में शौनक आदि सभी ऋषियों तथा मुनियों ने पुराणशास्त्र के वेत्ता श्रीसूत जी महाराज से पूछा – महामुने! किस व्रत अथवा तपस्या से मनोवांछित फल प्राप्त होता है, उसे हम सब सुनना…

Top