You are here
Home > आरती व चालीसा संग्रह

श्री वीरभद्र चालीसा

Veerbhadra Chalisa : वीरभद्र चालीसा in Hindi || दोहा || वन्‍दो वीरभद्र शरणों शीश नवाओ भ्रात ।ऊठकर ब्रह्ममुहुर्त शुभ कर लो प्रभात ॥ ज्ञानहीन तनु जान के भजहौंह शिव कुमार।ज्ञान ध्‍यान देही मोही देहु भक्‍ति सुकुमार।   || चौपाई || जय-जय शिव नन्‍दन जय जगवन्‍दन । जय-जय शिव पार्वती नन्‍दन ॥ जय पार्वती प्राण दुलारे। जय-जय भक्‍तन के…

श्री राणी सती जी की चालीसा

SHRI RANI SATI CHALISA : श्री राणी सती जी की चालीसा in Hindi || दोहा || श्री गुरु पद पंकज नमन, दुषित भाव सुधार, राणी सती सू विमल यश, बरणौ मति अनुसार, काम क्रोध मद लोभ मै, भरम रह्यो संसार, शरण गहि करूणामई, सुख सम्पति संसार॥ || चौपाई || नमो नमो श्री सती भवानी, जग…

श्री राधाकृष्ण की आरती

Radha Krishna Aarti : राधा कृष्ण आरती in Hindi ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्ण, !! श्री राधा कृष्णाय नमः !! !! घूम घुमारो घामर सोहे, जय श्री राधा, पट पीताम्बर मुनि मन मोहे जय श्री कृष्ण !! !! जुगल प्रेम रस झम-झम झमकै, श्री राधा कृष्णाय नमः !! !! राधा राधा कृष्ण कन्हैया…

सालासर बालाजी की आरती

SALASAR BALAJI AARTI : सालासर बालाजी की आरती in Hindi जयति जय जय बजरंग बाला, कृपा कर सालासर वाला ॥ चैत सुदी पूनम को जन्मे, अंजनी पवन खुशी मन में । प्रकट भए सुर वानर तन में, विदित यश विक्रम त्रिभुवन में । दूध पीवत स्तन मात के, नजर गई नभ ओर । तब जननी…

श्री परशुराम चालीसा

SHRI PARSHURAM CHALISA : श्री परशुराम चालीसा inHindi || दोहा || श्री गुरु चरण सरोज छवि, निज मन मन्दिर धारि। सुमरि गजानन शारदा, गहि आशिष त्रिपुरारि।। बुद्धिहीन जन जानिये, अवगुणों का भण्डार। बरणौं परशुराम सुयश, निज मति के अनुसार।। || चौपाई || जय प्रभु परशुराम सुख सागर, जय मुनीश गुण ज्ञान दिवाकर। भृगुकुल मुकुट बिकट…

श्री चिंतपूर्णी देवी की आरती

Shri Chintpurni Devi Aarti : श्री चिंतपूर्णी देवी की आरती in Hindi   चिंतपूर्णी चिंता दूर करनी, जन को तारो भोली माँ जन को तारो भोली माँ, काली दा पुत्र पवन दा घोड़ा सिंह पर भई असवार, भोली माँ चिंतपूर्णी चिंता दूर करनी, जन को तारो भोली माँ एक हाथ खड़ग दूजे मे खाडा, तीजे त्रिशूल…

श्री रघुवर जी की आरती

SHRI RAGHUVAR JI KI AARTI : श्री रघुवर जी की आरती in Hindi   आरती कीजै श्री रघुवर जी की, सत चित आनन्द शिव सुन्दर की॥ दशरथ तनय कौशल्या नन्दन, सुर मुनि रक्षक दैत्य निकन्दन॥ अनुगत भक्त भक्त उर चन्दन, मर्यादा पुरुषोत्तम वर की॥ निर्गुण सगुण अनूप रूप निधि, सकल लोक वन्दित विभिन्न विधि॥ हरण…

शाकम्भरी माता चालीसा

Shakambhari Mata Chalisa : शाकम्भरी माता चालीसा in Hindi   || दोहा || दाहिने भीमा ब्रामरी अपनी छवि दिखाए | बाई ओर सतची नेत्रो को चैन दीवलए | भूर देव महारानी के सेवक पहरेदार | मा शकुंभारी देवी की जाग मई जे जे कार || || चौपाई || जे जे श्री शकुंभारी माता | हर…

श्री अन्नपूर्णा माता की आरती

Shri Annapurna Devi Aarti : श्री अन्नपूर्णा माता की आरती in Hindi बारम्बार प्रणाम मैया बारम्बार प्रणाम जो नहीं ध्यावे तुम्हे अम्बिके, कहा उसे विश्राम अन्नपूर्णा देवी नाम तिहारो, लेत होत सब काम प्रलय युगांतर और जन्मान्तर , कालांतर तक नाम सुर असुरों की रचना करती, कहाँ कृष्ण कहं राम चुमहि चरण चतुर चतुरानन, चारू…

श्री अन्नपूर्णा चालीसा

Shri Annapurna Chalisa : श्री अन्नपूर्णा चालीसा in Hindi ॥ दोहा ॥ विश्वेश्वर पदपदम की रज निज शीश लगाय । अन्नपूर्णे, तव सुयश बरनौं कवि मतिलाय । ॥ चौपाई ॥ नित्य आनंद करिणी माता, वर अरु अभय भाव प्रख्याता । जय ! सौंदर्य सिंधु जग जननी, अखिल पाप हर भव-भय-हरनी । श्वेत बदन पर श्वेत…

Top