यह है पहाड़ों पर स्थित देवी के 10 प्रसिद्ध मंदिर

10 Famous Devi Temples Situated On Hills:  इस लेख में हम आपको देवी के 10 ऐसे प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में बता रहे हैं, जो पहाड़ों पर स्थित हैं। साथ ही आपको बतायेंगे उन मन्दिरों से जुड़ी खास बातें ….

1. कनक दुर्गा मंदिर, आंध्र प्रदेश (Kanaka durga temple, Vijayawada, Andhra pradesh)

Kanaka-Durga-Temple

  • इस स्थान के लिए मान्यता है कि अर्जुन ने इसी पहाड़ी पर भगवान शिव की तपस्या की थी।  शिव ने अर्जुन की तपस्या से प्रसन्न होकर पाशुपत अस्त्र प्रदान किया था।
  • कहा जाता है कि यहां देवी की प्रतिमा स्वतः ही प्रकट हुई थी। इसलिए भी यह मन्दिर खास है।

2 . वैष्णो देवी मंदिर, जम्मू-कश्मीर (Vaishno devi temple, Katra, Jammu and Kashmir)

Vaishno Devi Temple

  • वैष्णो देवी मन्दिर के गर्भगृह तक जाने के लिए पहले एक प्राचीन गुफा थी, जिसे अब बंद करके दूसरा रास्ता बना दिया गया है।
  • कहा जाता है कि देवी माँ ने इसी गुफा में भैरव को त्रिशूल से मारा था। ।

3 . शारदा माता मंदिर, मध्यप्रदेश (Mata Sharda devi temple, Maihar, MP)

58624965

  • यह शक्तिपीठ  51 शक्ति पीठों में से एक माना जाता है। कहते है की यहां पर देवी सती का हार गिरा था।
  • मैहर वाली माता मंदिर मध्यप्रदेश राज्य की त्रिकुटा पहाड़ी पर बसा है।

4 . तारा तारिणी मंदिर, उड़ीसा (Tara Tarini temple, Odisha)

taradevi

  • यह देवी मंदिर इसलिए अनोखा व बहुत ख़ास है क्योंकि यह मंदिर दो जुड़वां देवियों तारा और तारिणी को समर्पित है।
  • इस मन्दिर की बड़ी विशेषता यह है कि यह मंदिर देवी सती के 4 शक्ति पीठों के मध्य में स्थापित है, अर्थात इस मंदिर की चारों दिशा में एक एक शक्ति पीठ है।

5  . तारा देवी मंदिर, हिमाचल प्रदेश (Tara devi temple, Shimla, Himachal pradesh)

Tara Tarini Temple

  • यह मन्दिर लगभग 250 वर्ष पूर्व बनाया गया था।
  • मान्यता है कि यहां स्थापित तारा देवी की प्रतिमा प. बंगाल से लाई गई थी।

6 . चामुंडेश्वरी मंदिर, कर्नाटक (Chamundeshwari temple, Karnataka)

Chamundeshwari-Temple

  • इस मन्दिर की स्थापना 12 वीं सदी में की गई थी।
  • मंदिर के परिसर में राक्षस महिषासुर की एक 16 फुट ऊंची प्रतिमा स्थापित है। जो यहां के मुख्य आकर्षणों में से एक है।

7 . मनसा देवी मंदिर, उत्तराखंड (Mansa devi temple, Haridwar, Uttarakhand)

mansa-davi-haridwar

  • कहा जाता है कि मनसा देवी की उत्पत्ति ऋषि कश्यप के मन से हुई थी।
  • यहां स्थापित पेड़ पर धागा बांधने से मनोकामना जरूर पूरी होती है। मनोकामना पूरी होने के बाद पेड़ से एक धागा खोलने की परम्परा है।

8. अधर देवी / अर्बुदा  माता मंदिर, राजस्थान (Adhar / Arbuda devi  temple, Mount abu, Rajasthan)

Arbuda mata

  • यहां स्थापित अर्बुदा देवी की प्रतिमा हवा में अधर प्रतीत होती है, इस कारण अर्बुदा देवी को अधर माता भी कहा जाता है। अधिक जानकारी के लिए Click करें >>
  • यहां मान्यता है कि अगर कोई भक्त पूरी श्रद्धा के साथ देवी की पूजा करता है तो यहां उसे बादलों में देवी की छवि दिखती है।

9. बम्लेश्वरी देवी मंदिर, छत्तीसगढ़ (Bamleshwari devi temple, Dongargarh, Chhattisgarh)

two-thousand-old-history-of-the-temple-561cf87c70280_l

  • इस जगह का नाम डोंगर / डूंगर  और गढ़ शब्दों को मिलाकर बना है। डोंगर / डूंगर का अर्थ होता है पर्वत और गढ़ का मतलब होता है क्षेत्र।
  • यह मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के डोंगरगढ़ में 1600 फ़ीट ऊंची पहाड़ी पर स्थित है, जहां पहुंचने के लिए लगभग 1100 सीढ़ियां चढ़नी होती है।

10. सप्तश्रृंगी देवी मंदिर, महाराष्ट्र (Saptashrungi devi temple, Nasik, Maharashtra)

saptashrungi-temple-1

  • यहां की देवी मनोहारी प्रतिमा लगभग 10 फ़ीट ऊंची है। देवी मूर्ति के 18 हाथ है. जिनसे वे अलग-अलग अस्त्र-शस्त्र पकडे हुए है।
  • यह मंदिर छोटे-बड़े सात पर्वतों से घिरा हुआ है इसलिए यहां की देवी को सप्तश्रृंगी यानी सात पर्वतों की देवी कहा जाता है।

यह भी पढ़ें –

साल में केवल 5 घंटे के लिए खुलता है यह रहस्यमयी मन्दिर, और यह होता है >> Click here 

20,000 से भी ज्यादा चूहे हैं इस मन्दिर में, इनकी जूठन होता है प्रसाद >>Click here  

महाशक्तिपीठ माता हिंगलाज देवी, जिसकी मुसलमान भी करते हैं पूजा >> Click here 

अविश्वसनीय : शीतला माता के इस मंदिर में लाखों लीटर पानी से भी नहीं भरता ये छोटा सा घड़ा>> Click here

This site is protected by wp-copyrightpro.com