You are here
Home > Festivals > राम नवमी की सम्पूर्ण जानकारी | Ram Navmi Complete Details Puja Muhurt | Rama Navmi

राम नवमी की सम्पूर्ण जानकारी | Ram Navmi Complete Details Puja Muhurt | Rama Navmi

Rama Navmi| Ram Navmi 2018 | Ram Navmi 2019 | Ram Navmi Puja Vidhi | Vrat | What is Ram Navmi | Why is Ram Navmi Celebrated | Ram Navmi Puja Muhurt | Ram Navmi Puja Timings | Ayodhya | Ram Navmi kab hai |Ram Navmi Kyu Manate hain | Ram Janmotsav

Ram Navmi in Hindi :राम नवमी एक महत्त्वपूर्ण व प्रसिद्ध हिंदू उत्सव है जो हर साल चैत्र नवरात्रि के अंतिम दिन मनाया जाता है। यह पर्व भगवान राम के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है। मान्यता है कि इस दिन अर्थात चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथी को भगवान राम का जन्म हुआ था। इसलिए इस दिन प्रत्येक वर्ष राम नवमी का त्यौहार मनाया जाता है।

ram-navmi

कौन हैं भगवान राम ? | Who is Lord Rama ?

भारत के प्राचीन हिंदू शास्त्रों के अनुसार भगवान विष्णु संसार के सभी प्राणियों को सत्य और धर्म का मार्ग प्रदर्शित करने के लिए समय-समय पर पृथ्वी पर अवतरित होते हैं और बुराई पर अच्छाई की विजय सुनिश्चित करते हैं। भगवान विष्णु जगत के पालनहार हैं। त्रेता युग में भगवान विष्णु ने अयोध्यानरेश दशरथ के घर ज्येष्ठ पुत्र के रूप में जन्म लिया तथा अत्याचारी लंकापति रावण का वध कर जगत का उद्धार किया। बाद में अयोध्या के राजा बन रामराज्य स्थापित किया। आज भी सुशासन व खुशहाल राज्य की उपमा रामराज्य से की जाती है। श्री राम मर्यादा पुरुषोत्तम के रूप में जाने जाते हैं। श्री राम भगवान विष्णु के सातवें अवतार थे।

राम नवमी क्या है? यह कब मनाई जाती है? और यह हर साल एक अलग तारीख क्यों पड़ती है? | What Is Ram Navami ? When Is It Celebrated?

राम नवमी एक हिन्दू पर्व है जो भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। यह हिंदू या चंद्र कैलेंडर के आधार पर हर साल  चैत्र (मार्च के मध्य में) महीने में शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को मनाया जाता है। यह तिथि  आम तौर पर हर साल मार्च या अप्रैल के ग्रेगोरियन महीने (दुनिया भर में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला कैलेंडर) में होता है। राम नवमी प्रत्येक वर्ष एक अलग दिन और तारीख पर आता है क्योंकि यह पर्व हिंदू या चंद्र कैलेंडर पर आधारित है, जिसमें हर महीने में 28 दिन (चंद्र चक्र पर आधारित) है। इसलिए हर दिन ग्रेगोरियन कैलेंडर पर दिन और तारीख में बदलाव होता है।

राम नवमी 2018 कब है ? पूजा का मुहूर्त कब है ? | When Is Ram Navami 2018?  What Are The Timings For Puja ? Ram Navmi Puja Muhurt :

राम नवमी 2018 रविवार 25 मार्च, 2018 को मनाया जाएगा और सोमवार, 26 मार्च, 2018 की सुबह समाप्त होगा। भगवान राम का जन्म चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथी को हुआ था। हर साल यह दिन भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। भगवान राम का जन्म मध्याह्न  हुआ था। मध्याह्न में छह घटियां (लगभग 2 घंटे और 24 मिनट) होते हैं इसलिए मध्याह्न राम नवमी पूजा व अनुष्ठान करने का सबसे शुभ समय है। इस समय श्रीराम की पूजा और उत्सव अपने चरम पर होते हैं।

  • प्रारंभ तिथि और समय (तिथी):- रविवार 25 मार्च, 2018 बजे 08:02 बजे
  • राम नवमी पूजा समय (प्रारंभ मुहूर्त):-  रविवार 25 मार्च, 2018 को 11:32 बजे
  • राम नवमी पूजा समय (समाप्ति मुहूर्त):-  रविवार, मार्च 25, 2018 बजे 1:57 बजे (13:57 बजे)
  • समाप्ति दिनांक और समय (तिथी):-  सोमवार, मार्च 26, 2018 बजे 05:54

राम नवमी क्यों मनाया जाता है? | Why is Ram Navmi Celebrated ?

भगवान् श्री राम ने त्रेता युग में अयोध्या के राजा दशरथ और उनकी बड़ी रानी कौशल्या के पुत्र के रूप में जन्म लिया।  भगवान राम के अवतार में भगवान विष्णु के वंश को चिह्नित करने के लिए राम नवमी या राम नवमी को मनाया जाता है, जो ‘त्रेता युग’ (या त्रेता युग) में रानी कौशल्या और राजा दशरथ को अयोध्या के राज्य में पैदा हुआ था। अयोध्या अवध में कोसल राज्य की राजधानी थी (वर्तमान उत्तर प्रदेश में अवध के रूप में जाना जाता है)। भगवान राम का उल्लेख प्राचीन हिंदू ग्रंथों में ही नहीं, बल्कि जैन धर्म और बौद्ध धर्म के ग्रंथों में भी पाया जाता है। भगवान राम की कथा का ज्ञान प्राचीन हिंदू महाकाव्य महर्षि वाल्मीकि विरचित रामायण से पता चलता है। श्रीराम रामायण के मुख्य चरित्र हैं।

अयोध्या में राम नवमी का उत्सव | Ram Navmi Festival in Ayodhya :

अयोध्या भगवान राम की जन्मस्थली है और अयोध्या का राम नवमी उत्सव उल्लेखनीय है। दूर-दूर से  भक्त इस उत्सव में भाग लेने के लिए अयोध्या आते हैं। सरयू नदी ने पवित्र स्नान कर भक्त श्रीराम मंदिर जाते हैं और श्रीराम के जन्मोत्सव में भाग लेते हैं।

राम नवमी की पूजा विधि और मंत्र जाप कैसे करें ? | Ram Navmi Puja Vidhi | How to perform Mantra Jap :

राम नवमी की पूजा विधि यदि शास्त्रों के अनुसार की जाये तो यह बहुत शुभ और मंगलकारी होता है।  राम नवमी की पूजा में कलश स्थापना व पंचांग स्थापना का बहुत महत्त्व है। इस पूजा में गौरी गणेश, पुण्यवचन, षोडश मातृका, नवग्रह और सर्वतोभद्र शामिल हैं। पाठ में योगिनी पूजन (64 बार), क्षेत्रपाल पूजन, स्वस्तिवचन और संकल्प शामिल हैं।

शास्त्रों के अनुसार इस पूजा में प्रत्येक ग्रह के 108 मंत्रोच्चार, राम रक्षा स्तोत्र के 108 पाठ किये जाने चाहिये। इस दिन राम-सीता पूजन किया जाता है और सुन्दरकाण्ड का पाठ भी किया जाना चाहिए।  अंत में आरती और पुष्पांजलि के साथ पूजा समाप्त की जाती है।

राम नवमी (राम नवमी) पर क्या करना चाहिए? | How to Celebrate Ram Navmi ?

  • भारतवर्ष के सभी लोग सद्भाव और शांति का जश्न मनाने के लिए राम नवमी पर एक साथ आते हैं। कुछ लोग रामायण का गायन भी करते हैं।
  • पूजा मन्दिरों के समान ही घरों में भी की जा सकती है।
  • इस दिन मंदिरों और घरों में किये जाने वाले भजन-कीर्तन में भाग लिया जा सकता है।
  • बहुत से लोग भगवान् श्रीराम  के प्रति भक्ति व्यक्त करने  व्रत रखते हैं और मंदिरों में सामाजिक सेवाएं देते हैं।

रामनवमी का व्रत कैसे करें | How to perform Ram Navmi Vrat (Fast)

रामनवमी का व्रत करने के लिए आठ प्रहर का व्रत सुझाया जाता है जिसका अर्थ है कि इस दिन सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक व्रत रखना चाहिए।

Sanjay Sharma
Sanjay Sharma is the founder and author of Mission Kuldevi inspired by his father Dr. Ramkumar Dadhich. Mission Kuldevi is trying to get information of all Kuldevi and Kuldevta of all societies on one platform.

Leave a Reply

Top

This site is protected by wp-copyrightpro.com