You are here
Home > Festivals > Rohini Vrat | रोहिणी व्रत का महत्त्व तथा पूजा व उद्यापन विधि

Rohini Vrat | रोहिणी व्रत का महत्त्व तथा पूजा व उद्यापन विधि

Rohini Vrat in Hindi | Rohini Vrat Puja Vidhi | Rohini Vrat Udyapan Vidhi | Vrat ka Mahattva | Why Rohini Vrat | Benefits of Rohini Vrat | Significance of Rohini Vrat | Rohini Vrat Dates in 2018

Rohini Vrat | Puja Vidhi : रोहिणी व्रत जैन समुदाय में महत्वपूर्ण उपवास दिवस है। रोहिणी व्रत मुख्य रूप से अपने पति के लंबे जीवन के लिए महिलाओं द्वारा मनाया जाता है। रोहिणी जैन और हिंदू कैलेंडर में सत्ताईस नक्षत्रों में से एक नक्षत्र है।

रोहिणी व्रत उस दिन मनाया जाता है जब रोहिणी नक्षत्र सूर्योदय के बाद प्रबल होता है। यह दिन हर सत्ताईस दिनों के बाद आता है। इस प्रकार यह वर्ष में बारह से तेरह बार आता है। यह माना जाता है कि जो लोग रोहिणी व्रत रखते हैं वे सभी प्रकार के दुखों और गरीबी से छुटकारा पा सकते हैं।

आमतौर पर रोहिणी व्रत को तीन, पांच या सात साल के लिए लगातार मनाया जाता है। रोहिणी उपवास के लिए उचित अवधि पांच वर्ष और पांच महीने है। इसके बाद उद्यापन कर दिया जाता है।

rohini-vrat

रोहिणी व्रत क्यों मनाया  जाता है ? | Why Rohini Vrat :

जैन धर्म के अनुयायियों के लिए अध्यात्म के कई कठोर रूप हैं। चूँकि कठोर नियम केवल संतों के द्वारा अनुसरण किए जा सकते हैं, इसलिए गृहस्थों के लिए कुछ सरल प्रक्रियाओं का पालन करने के लिए प्रावधान है। चूंकि जैन परिवारों में महिलाओं द्वारा कठोर व्रतों का पालन करना मुश्किल है, इसलिए रोहिणी व्रत उन लोगों को आध्यात्मिक अनुशासन प्राप्त करने का सरल उपाय है।

यह व्रत उन्हें धैर्य, सहनशीलता और सद्भाव सिखाता है। वे जीवन की कठिनाइयों का सामना करना सीखते हैं और उनकी इच्छाओं को विराम देना सीखते हैं।

कुछ परिवारों में, सभी सदस्य इस व्रत का पालन करते हैं जबकि कुछ परिवारों में केवल महिलाएं सामान्य  दिनचर्या के साथ उपवास का पालन करते हैं। यह माना जाता है कि रोहिणी व्रत भगवान वसुपूज्य का आशीर्वाद पाने और परिवारों में जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

रोहिणी व्रत की पूजा विधि | Rohini Vrat Puja Vidhi in Hindi :

रोहिणी व्रत के दिन, व्रत करने वाली महिला सुबह उठकर एक पवित्र स्नान लेती है। भगवान वसुपूज्य की मूर्ति के साथ पूजा कक्ष में वेदी की स्थापना की जाती है।  इस व्रत में भगवान वासुपूज्य की पूजा की जाती है। पूजा के लिए वासुपूज्‍य भगवान की पांचरत्‍न, ताम्र या स्‍वर्ण प्रतिमा की स्‍थापना की जाती है। उनकी आराधना करके दो वस्‍त्रों, फूल, फल  और नैवेध्य का भोग लगाया जाता है। रोहिणी व्रत का पालन उदिया तिथि में रोहिणी नक्षत्र के दिन से शुरू होकर अगले नक्षत्र मार्गशीर्ष तक चलता है। इस दिन गरीबों को दान देने का भी महत्व होता है।

रोहिणी व्रत उपवास नियम व उद्यापन विधि | Rohini Vrat Rules and Udyapan Vidhi in Hindi :

यह व्रत  रोहिणी के दिन शुरू होना चाहिए और अगले सितारे (मार्गशीर्ष) के उदय तक तक किया जाना चाहिए। यह व्रत कब तक किया जाये यह महिलायें पसंद से चुनती है लेकिन इस  व्रत की आदर्श अवधि पांच साल और पांच महीने है। इस समय रोहिणी व्रतों के दिन यह उपवास रखा जाता है। इस पूरी अवधि के बाद, व्रत का उद्यापन कर दिया जाना चाहिए। उद्यापन के लिए नियमानुसार व्रत पूर्ण कर भगवान् वासुपूज्य के दर्शन करने चाहिए। गरीबों को भोजन व दान देना चाहिए।

रोहिणी व्रत का महत्‍व | Significance of Rohini Vrat in Hindi :

यह व्रत महिलाओं के लिए अधिक महत्वपूर्ण माना गया है। जैन परिवारों की महिलाओं के लिए तो इस व्रत का पालन करना अति आवश्यक माना गया है। यह व्रत ‘रोहिणी देवी’ से जुड़ा है। इस दिन पूरे विधि-विधान से उनकी पूजा की जाती है। वैसे पुरुष भी ये व्रत कर सकते हैं। इस पूजा में जैन धर्म के लोग भगवान वासुपूज्य की पूजा करते हैं। महिलायें अपने पति की लम्बी आयु व स्वास्थ्य के लिए करती हैं। इस व्रत को करने से धन, धान्‍य, और सुखों में वृद्धि होती है। इस दिन व्रत करने वाले भगवान से अपने अपराधों की क्षमा मांग कर मुक्‍त होते हैं।

Rohini Vrat Dates in 2018 :

दिनांक

महीना

दिन

 व्रत

 27 जनवरी शनिवाररोहिणी व्रत
 24 फरवरी शनिवार रोहिणी व्रत
 23 मार्च शुक्रवार रोहिणी व्रत
 19अप्रैल गुरुवार रोहिणी व्रत
 17 मई गुरुवार रोहिणी व्रत
 13 जून बुधवार रोहिणी व्रत
 10 जुलाई मंगलवार रोहिणी व्रत
 7 अगस्त मंगलवार रोहिणी व्रत
 3 सितम्बर सोमवार रोहिणी व्रत
 30 सितम्बर रविवार रोहिणी व्रत
 28 अक्टूबर रविवार रोहिणी व्रत
 24  नवम्बर शनिवार रोहिणी व्रत
 21 दिसम्बर शुक्रवार रोहिणी व्रत

रोहिणी व्रत के लाभ | Benefits of Rohini Vrat in Hindi :

  • जैन परिवारों में महिलाएं रोहिणी व्रत का पालन करती हैं क्योंकि वे अपने पति के अच्छे स्वास्थ्य और लंबे जीवन को सुरक्षित रख सकते हैं।
  • रोहिणी व्रत से गरीबी दूर होती है और घर में समृद्धि का वास होता है।
  • यह व्रत परिवार में एक सुसंगत संबंध और खुशी को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।
loading...

Sanjay Sharma
Sanjay Sharma is the founder and author of Mission Kuldevi inspired by his father Dr. Ramkumar Dadhich. Mission Kuldevi is trying to get information of all Kuldevi and Kuldevta of all societies on one platform.

प्रातिक्रिया दे

Top