You are here
Home > विविध > लोधा जाति का इतिहास, खांप व कुलदेवी | Lodha Caste History Kuldevi Khap Gharane

लोधा जाति का इतिहास, खांप व कुलदेवी | Lodha Caste History Kuldevi Khap Gharane

परिचय 

लोधा अपने को यदुवंशी बतलाते हैं। इनकी ख्यातों के अनुसार ये भुवनपाल यादव के द्वितीय पुत्र सामंत के वंशज हैं जिसने लुधियाना बसाया था। तब से ही यह लोधा कहलाने लगे। लोधी (या लोधालोध) भारत में पायी जाने वाली एक किसान जाति है। ये मध्य प्रदेश में बहुतायत में पाये जाते हैं, जहाँ यह लोग उत्तर प्रदेश से विस्थापित होकर आ बसे है। ब्रिटिश स्रोतो में लोधियों को उत्तर भारत से विस्थापित होना बताया गया है, जहाँ से यह लोग मध्य भारत में आ बसे। ऐसा करने में उनके सामाजिक स्तर में उत्थान हुआ। “लोधी” हिन्दू समुदाय भारत भर में फैला है | समुदाय क्षत्रिय वर्ग के अंतर्गत आता है और एक मजबूत योद्धा के रूप में माना जाता है। शब्द “लोधी” योद्धा (योद्धा) का अर्थ है जो लोध का दूसरा संस्करण है । लोधी पृथ्वी के पहले क्षत्रिय थे। लोधी ‘अन्य पिछड़े वर्ग’ की एक जाति है, परंतु इस जाति के लोग राजपूतो से संबधित होने का दावा करते हैं तथा ‘लोधी-राजपूत’ कहलाना पसंद करते हैं। जबकि, इनके राजपूत मूल से उद्धृत होने का कोई साक्ष्य नहीं है और न ही इन लोगो में राजपूत परंपराए प्रचलित है।

ये ज्यादातर हाड़ोती क्षेत्र भरतपुर व सवाई माधोपुर जिले में बसे हैं। इनका मुख्य पेशा कृषि है। पहले यह सण की ज्यादा काश्त करते थे।

शब्द की उत्पत्ति :-

ब्रिटिश शासन के एक प्रशासक, रोबर्ट वेन रुसेल ने लोधी शब्द के कई संभव शाब्दिक अर्थों का जिक्र किया है, उदहरण के लिए लोध वृक्ष के पत्तों से रंगो का निर्माण करने का कार्य करने के कारण ये लोग लोधी कहलाए। रुसेल ने यह भी कहा है कि ‘लोधा’ मूल शब्द है जो कि बाद में मध्य प्रदेश में ‘लोधी’ में रूपांतरित हो गया। एक अन्य सिद्धान्त के अनुसार, लोधी अपने गृह निवास पंजाब के लुधियाना शहर के नाम से लोधी कहलाए।


लोधों की निम्न खांपें है :-

सिनवाला, सागरिया, हगा, धेहार, मेव आदि | 

लोधों के घराने :-

मथुरिया, जरिया, पतरिया, भिनगुहिया, लोढ़ा, भीलवाड़ा, जाँगड़ा, लोमी, धीहालोधी, कोकशिया, भागीरथी और नटवारिया | 

लोधा जाति की कुलदेवी 

यदि आपके पास लोधा जाति की कुलदेवी की जानकारी है तो समाजहित में कृपया Comment Box में जरूर बतायें। 

Sanjay Sharma
Sanjay Sharma is the founder and author of Mission Kuldevi inspired by his father Dr. Ramkumar Dadhich. Mission Kuldevi is trying to get information of all Kuldevi and Kuldevta of all societies on one platform.

प्रातिक्रिया दे

Top

This site is protected by wp-copyrightpro.com