नवरात्रि विशेष : माँ नवदुर्गा का चौथा रूप हैं देवी कूष्माण्डा; कथा मंत्र व आरती

maa-kushmanda-photo

सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च। दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे॥ Kushmanda the Fourth form of Goddess Durga History, Kavach, Aarti, Puja Vidhi, Stotra in Hindi: भगवती दुर्गा के चौथे स्वरूप का नाम कूष्माण्डा है। “कुत्सित: कूष्मा कूष्मा-त्रिविधतापयुत: संसार:, स अण्डे मांसपेश्यामुदररूपायां यस्या: सा कूष्मांडा “।  अर्थात वह देवी जिनके  उदर में त्रिविध तापयुक्त संसार स्थित है वह कूष्माण्डा हैं। देवी … Read more नवरात्रि विशेष : माँ नवदुर्गा का चौथा रूप हैं देवी कूष्माण्डा; कथा मंत्र व आरती

This site is protected by wp-copyrightpro.com