kuldevi-list-of-sikhwal-samaj

Gotra wise Kuldevi List of Sikhwal Community सिखवाल समाज की कुलदेवियाँ

सिखवाल ब्राह्मण समाज का सम्बन्ध महर्षि श्रृंगी से माना जाता है। महर्षि श्रृंगी के पिता महर्षि विभाण्‍डक ब्रह्माजी के मानस पुत्र मरीचि के पौत्र तथा कश्‍यप मुनि के पुत्र थे। इनका जन्‍म त्रेता युग में  शापित देव कन्‍या मृगी के गर्भ से हुआ था। इनके नामकरण के पीछे मान्यता है कि जन्म से ही इनके सिर पर सींग (संस्कृत में श्रृंग ) जैसा उभार था, इस कारण इनका नाम श्रृंगी पड़ गया। 

महर्षि श्रृंगी का विवाह अंगदेश के राजा रोमपाद की दत्तक पुत्री शान्ता (जो कि राजा दशरथ की पुत्री तथा श्रीराम की बहन थी) के साथ संपन्न हुआ था। इनके एक पुत्र हुआ जिसका नाम शांत सारंग रखा गया। जिसे महर्षि श्रृंग ने वेदों का अध्ययन कराया जिससे वह वेदवेदान्त सारंग्य ऋषि के नाम से प्रसिद्ध हुए और उन्ही से (श्रृंग वंश) अर्थात सिखवाल जाति का आर्विभाव हुआ । सारंग्य ऋषि के सात पुत्र हुए । इनके नाम 1- ज्ञानेश्वर 2- धाराशीश 3- भीमेश्वर 4- गोविंद देव 5- दुग्धेश्वर 6 – अनिलेश्वर और 7- जयश्वेर हुए । इन सात ऋषि के चौबीस पुत्र हुए और इन चौबीस ऋषिओं से श्रृंग समाज अर्थात सिखवाल ब्राह्मण समाज  के 57 गोत्र आदि बने। 

नीचे है सिखवाल समाज की गोत्रानुसार कुलदेवियां, पर पहले इस वीडियो में कीजिये श्रृंगी ऋषि के मंदिर के दर्शन –

इस वीडियो में कीजिये श्रृंगवेरपुर तथा वहां स्थित श्रृंगी ऋषि के मंदिर के दर्शन :

Shringi Rishi Mandir Darshan, Shringverpur

Kuldevi List of Sikhwal Samaj सिखवाल समाज के गोत्र एवं कुलदेवियां 

Gotra wise Kuldevi List of Sikhwal Samaj : सिखवाल समाज की गोत्र के अनुसार कुलदेवियों का विवरण इस प्रकार है –

सं.कुलदेवीउपासक अवंटक (सामाजिक गोत्र) (Gotra of Sikhwal Samaj)

1.

आशापुरीकू्रराडिया।

2.

कनकेश्वरीझांझरा व्यास, बालसूर्या।

3.

कवलायककेडिया।

4.

खींवजगोडवाला, झीजावत।

5.

ग्वालजागरवडिय़ा, देव्या, चन्द्रावत, रायकवाल, कू्ररशील्या, सांवल्या।

6.

चामुण्डाकोलर्या, तवक्या, बागड़ा, चांदणा, मंडोवरा जोशी, कुचोर्या, तुगनावत।

7.

ज्वालामुखी/जालायकाश्यपा, वद्र्या।

8.

जाखणनरोधन्या, नरोधना।

9.

जीणाय/ जीवणबागड़ी, नल्या, हरसोर।

10.

नौसरनोसार्या।

11.

ब्रह्माणीपालर्या, नागौरी, डूख्या, भरूड़।

12.

बडख़णगुदोड्या।

13.

बड़वासनबहलाण्या, तड़बा।

14.

बुंवालकोट्या, बोहरा व्यास।

15.

मुसायजयवाल।

16.

संचायजर्या, निबार्चा।

Your contribution आपका योगदान  –

जिन कुलदेवियों व गोत्रों के नाम इस विवरण में नहीं हैं उन्हें शामिल करने हेतु नीचे दिए कमेण्ट बॉक्स में  विवरण आमन्त्रित है। (गोत्र : कुलदेवी का नाम )। इस Page पर कृपया इसी समाज से जुड़े विवरण लिखें।

24 thoughts on “Gotra wise Kuldevi List of Sikhwal Community सिखवाल समाज की कुलदेवियाँ”

      • कुल एवं उपाधिगौत्रकुलदेवी
        पलरिया पुरोहितवशिष्ठब्रह्माणी (फलौदी माता)
        कोलर्या पुरोहितवशिष्ठचामुण्डा माता
        धनघा पुरोहितवशिष्ठदुर्गामाता
        नागोरी ओझावशिष्ठब्रह्माणी (फलौदी माता)
        अठारिया उपाध्यायवशिष्ठब्रह्माणी (फलौदी माता)
        माणमिया उपाध्यायवशिष्ठब्रह्माणी (फलौदी माता)
        जयवाल उपाध्यायवशिष्ठमुसाम (कनकेश)
        दुख्या उपाध्यायवशिष्ठब्रह्माणी (फलौदी माता)
        भरुड उपाध्यायवशिष्ठब्रह्माणी (फलौदी माता)
        पिपाडा पाण्डियाभारव्दाजजेठाय, पांडोरवाय
        नागला तिवाड़ीभारव्दाजजेठाय
        बागड़ी तिवाड़ीभारव्दाजजीणाय
        गरवरिया तिवाड़ीभारव्दाजग्वालजा
        तवर्क्या तिवाड़ीभारव्दाजचामुण्डा
        कर्केडिया तिवाड़ीभारव्दाजकंवलाय
        नोसार्य तिवाड़ीभारव्दाजनौसर
        तुखार तिवाड़ीभारव्दाजजेठाय
        गोंदोडिया तिवाड़ीभारव्दाजबड़खण
        बड़लाण्या तिवाड़ीवशिष्ठबड़वासन
        बांगडा जोशीभारव्दाजचामुण्डा
        चांदणा जोशीभारव्दाजचामुण्डा
        मंडावरा जोशीकोडिन्यचामुण्डा
        तड़बा तिवाड़ीवशिष्ठबड़वासन
        गोड़ावाला पांडियाकनकेशखीवज
        मंडोवरा व्यासकनकेशदुधेंसर
        लिलरिया व्यासवत्सजेष्ठायिनी
        दर्घा ओझाभारव्दाजगुंजण
        नल्या ओझाभारव्दाजजीवण
        अगवाल उपाध्यायकनकेशवाराही
        कूराडिया तिवाड़ीकोडल्यआसापुरी
        क्रिया पण्डितकनकेशभैंसाय
        देव्या पण्डितभारव्दाजग्वालजा
        पाण्डयाभारव्दाजचामुण्डा
        जर्या बोहराभारव्दाजसंचाय
        झांचावन बोहराभारव्दाजखींवज
        बोहरा जोशीभारव्दाजबोहोतर
        वर्धा जोशीभारव्दाजजालप
        पाठकभारव्दाजनिम्बाय
        डेगानिया व्यासकुण्डलेशदुगार
        चन्द्रावत व्यासभारव्दाजग्वालजा
        कुचोर्या व्यासभारव्दाजचामुण्डा
        राकवाल व्यासभारव्दाजग्वालजा
        बोहरा व्यासभारव्दाजबुआल
        हरसोरा व्यासभारव्दाजझीणाय
        झांझर व्यास बोहराभारव्दाजकनकेश्वरी
        बाह्ड़ा जोशीकनकेशदूदेश्वरी
        गलेरिया जोशीभारव्दाजउपासण
        नरोधना तिवाड़ीकुण्डलेशजाखणा
        लाड़ जोशीकुण्डलेशगुणाय
        निम्बाच्या जोशीभारव्दाजसंचाय
        बालसूर्या जोशीभारव्दाजकनकेश्वरी
        क्रूरशील जोशीभारव्दाजग्वालजा
        काश्यपा जोशीभारव्दाजज्वालामुखी
        जलदेव्या जोशीभारव्दाजखीं वज
        कोटया जोशीभारव्दाजबूचाल
        सांवलिया जोशीभारव्दाजग्वालजा
        तुगनावत जोशीभारव्दाजचामुण्डा

        प्रतिक्रिया
  1. सकलेचा, संकलेचा, संखलेचा सभी सुखवाल jain गोत्र शंखवाली ग्राम से उत्पती हुई थी व शंखेश्वरी माॅ, शंखवाली(अम्बा) मा कुलदेवी नाम दिया था आगे उप गोत्रे तो पदवीया जैसे कोठारी, भंडारी, ममैया,मेहता, शाह, कास्टीया, बोरन्दीया, जिन्दाणी, हालाखदी, बुटा, बाला, कानुगा,संघवी, पटवा और जिस नामो से अंलकरित हुए है आपस मे व्याव शादी का रिश्ता नही करते है
    अब हमे आपके सहयोग, सबलता व सुझाव से ज्यादा सूचनाओ मे सहयोग कि जरुरत है जरूर एकजुट होकर माॅ कि मेहर
    लीला लेहर की आवाज को गगन में गुंजायमान करेगें

    प्रतिक्रिया

Leave a Comment

This site is protected by wp-copyrightpro.com