श्री जीण चालीसा

Jeen Mata Chalisa

Shri Jeen Mata Chalisa: श्री जीण चालीसा in Hindi

|| दोहा ||
श्री गुरु पद सुमरण करी,गोंरी नंदन ध्याय |
वरनों माता जीण यश , चरणों शीश नवाय ||
झांकी की अद्भुत छवि , शोभा कही न जय |
जो नित सुमरे माय को , कष्ट दूर हो जाय ||
|| चोपाई ||
जय जय जय श्री जीण भवानी |दुष्ट दलन सनतन मन मानी ||
कैसी अनुपम छवि महतारी | लख निशिदिन जाऊ बलहारी ||
राजपूत घर जनम तुम्हारा | जीण नाम माँ का अति प्यारा ||
हर्षा नाम मातु का भाई | प्यार बहन से है अधिकाई ||
मनसा पाप भाभी को आया | बहन से ये नहीं छुपे छुपाया ||
तज के घर चल दीन्ही फ़ौरन |निज भाभी से करके अनबन ||
नियत नार की हर्षा लख कर |रोकन चला बहन को बढ़ कर ||
रुक जा रुक जा बहन हमारी | घर चल सुन ले अरज हमारी ||
अब भेया में घर नहीं जाती |तज दी घर अरु सखा संघाती ||
इतना कह कर चली भवानी | शुची सुमुखी अरु चतुर सयानी ||
पर्वत पर चढ़कर हुँकारी | पर्वत खंड हुए अति भारी ||
भक्तो ने माँ का वर पाया |वही महत एक भवन बनाया||
रत्न जडित माँ का सिंघासन |करे कौन कवी जिसका वर्णन||
मस्तक बिंदिया दम दम दमके|कानन कुंडल चम् चम् चमके||
गल में मॉल सोहे मोतियन की| नक् में बेसर है सुवरण की||
हिंगलाज की रहने वाली|कलकत्ते में तुम ही काली ||
नगर कोट की तुम ही ज्वाला|मात चण्डिका तुम हो बाला||
वैष्णवी माँ मनसा तू ही |अन्नपुर्णा जगदम्बा तू ही||
दुष्टो के घर घालक तुम ही |भक्तो की प्रतिपालक तुम ही||
महिषासुर की मर्दन हारी|शुम्भ -निशुम्भ की गर्दन तारी||
चंड मुंड की तू संहारी |रक्त बीज मारे महतारी||
मुग़ल बादशाह बल नहीं जाना |मंदिर तोड्न को मन माना ||
पर्वत पर चढ़ कर तू आई|कहे पुजारी सुन मेरी माई||
इसको माँ अभिमान है भारी|ये नहीं जाने शक्ति तुम्हारी||
माँ ने भवर विलक्षण छोड़े|भागे हाथी भागे घोड़े||
हार गया माँ से अभिमानी |गिर चरणों में कीर्ति बखानी||
गुनाह बख्श मेरी खता बख्श दे |दया दिखा मेरे प्राण बख्श दे||
तेल सवा मन तुरंत चढाया |दीप जला तम नाश कराया||
माँ की शक्ति अपरम्पारा | वो समझे सो माँ का प्यारा||
शुद्ध हदय से माँ का पूजन |करे उसे माँ देती दर्शन||
दुःख दरिद्र को पल में टारी|सुख सम्पति भर दे महतारी||
जो मनसा ले तोंकू जाये |खाली लोट कभी न आये ||
बाँझ दुखी और बूढ़ा बाला| सब पर कृपा करे माँ ज्वाला||
पीकर सूरा रहे मतवाली|हर जन की करती रखवाली||
सूरा प्रेम से करता अर्पण |उसको माँ करती आलिंगन||
चेत्र अश्विन कितना प्यारा|पर्व पड़े माँ का अति भरा||
दूर दूर से यात्री आवे |मनवांछित फल माँ से पावे||
जात जडूला कर गठ जोड़ा| माँ के भवन से रिश्ता जोड़ा ||
करे कढाई भोग लगावे |माँ चरणों में शीश शुकावे ||
जीण भवानी सिंह वाहिनी | सभी समय माँ रहो दाहिनी ||
नित चालीसा जो पढ़े , दुःख दरिद्र मिट जाय |
भ्रष्ट हुए प्राणी भले , सुधर सुपथ चल आय ||
ग्राम जीण सीकर जिला, मंदिर बना विशाल |
भवरा की रानी तूँ ही ,जीण भवानी काल ||
काजल शिखर विराजती, ज्योति जलत दिन रात |
भय भंजन करती सदा ,जीण भवानी मात ||

|| दोहा ||
जय दुर्गा जय अम्बिका , जग जननी गिरिराय |
दया करो हे जगदम्बे , विनय शीश नवाय ||

 

Shri Jeen Chalisa in English

||Doha ||
Shree guru pada sumraan karun gauri nandan dhyay |
Varno mata Jeen yash, charno sheesh navay||
Jaanki ki adbhot chavi shobha warni naa jaai |
jo nit sumre maai ko kasht duur ho jaaye ||
|| Chopai ||
Jai shree jeen bhagtan sukh kari | namo namo bhagtan hit kari |
durga ki tum avtara, sakal kasht tu meit humara |
maha-bhayankar tej tumhara, mahishasur sa dusht sanghara |
Kanchan chatra sheesh paar sohe, dekhat rup charachr mohe |
tum shatri-ghar tan-ghar linha, bhakto ke sab kaaraj kinha |
maha-shakti tum sundar bala, daarpat bhoot prêit jum kala|
Bramha vishnu Shankar dhyave, rishi muni koi paar naa pave|
Tum gauri tum sharda kaali, rama lakshmi tum kapali|
Jagdamba bhavro ki rani, maiyaa maat tu maha-bhawani|
Sat paar tje jeen tumgeha, tyaga sab se shaan me neha|
Maha-tapasya karni thani harsh khaas tha bhai gyani|
Piche se aakar samjhai, ghar waapis chal maa ki jai|
Bahut kahi par ek naa maani, tab harsha yu uchari baani|
Mein bhi bai ghar nahi jau, tere saath ram gun gau|
Alag alag tap sthal kinha, raen diwas taap mein chira-dinha|
Tum tap kar durgtava paya, harsh naath bhairav ban chaya|
Wahan singh khadak kar chamke, mahatej bijli sa chamke|
Chakra, gada, trishul viraje, bhaage dusth jab durga jaage|
Mugal badshah chadkar aaya, saina bahut sajja kar laya|
Bahirav ka mandir tudwaya fir woh is mandir par dhaya|
Yeh dekh pandey ghabraye, kari stuti maat jagaye|
Tab mata tu bhore chode, saina sahit bhaage ghode|
Bal ka tej dekh ghabraya, jaa charno mein sheesh navaya|
Shama yaachna kini bhari, kaat jeen meri sab bimari|
Sone ka woh chatra chadaya, tel savaman aur bandhaya|
Chamak rahi kalyug mein mai, teen lok mein mahima chayi|
jo koi tere mandir aawe, sache man se bhog lagawe|
Choli wastra kapur chadhawe, manowanchit purn fal paawe|
Kare aarti bhajan sunawe, so nar shobha jag mein paawe|
Shekha waati dham tumhara, sundar shobha nahi sumhara|
Aswani maas navrata maa hi , kai yaatri aawe jahi|
Desh desh se aawe rela, chait maaas mein laage mela|
Aawe uuth car bas laari, bheed lage mele mein bhari|
Saaj baaj se karte gaana, kai mard aur kai janana|
Jaat jhadula chadhe apara, sawa mani ka pau na para|
Madira mein rehti matwali, jai jagdamba jai maha kali|
jo koi tumhre darshan paawe, mauj kare jug-jug sukh paawe|
Tumhi humari pitu aur mata, bhakti-shakti do he data|
Jeen chalisa jo koi gaawe, so sat path kare karwawe|
Maiya Naiiya paar lagawe, sewak charno mein chit laawe|
Doha
Jai durga jai ambika jag jannani giri rai|
Daya karo he chandika banyu shish nawaye||

1 thought on “श्री जीण चालीसा”

Leave a Comment

This site is protected by wp-copyrightpro.com