You are here
Home > आरती व चालीसा संग्रह > श्री जीण चालीसा

श्री जीण चालीसा

Jeen Mata Chalisa

Shri Jeen Mata Chalisa: श्री जीण चालीसा in Hindi

|| दोहा ||
श्री गुरु पद सुमरण करी,गोंरी नंदन ध्याय |
वरनों माता जीण यश , चरणों शीश नवाय ||
झांकी की अद्भुत छवि , शोभा कही न जय |
जो नित सुमरे माय को , कष्ट दूर हो जाय ||
|| चोपाई ||
जय जय जय श्री जीण भवानी |दुष्ट दलन सनतन मन मानी ||
कैसी अनुपम छवि महतारी | लख निशिदिन जाऊ बलहारी ||
राजपूत घर जनम तुम्हारा | जीण नाम माँ का अति प्यारा ||
हर्षा नाम मातु का भाई | प्यार बहन से है अधिकाई ||
मनसा पाप भाभी को आया | बहन से ये नहीं छुपे छुपाया ||
तज के घर चल दीन्ही फ़ौरन |निज भाभी से करके अनबन ||
नियत नार की हर्षा लख कर |रोकन चला बहन को बढ़ कर ||
रुक जा रुक जा बहन हमारी | घर चल सुन ले अरज हमारी ||
अब भेया में घर नहीं जाती |तज दी घर अरु सखा संघाती ||
इतना कह कर चली भवानी | शुची सुमुखी अरु चतुर सयानी ||
पर्वत पर चढ़कर हुँकारी | पर्वत खंड हुए अति भारी ||
भक्तो ने माँ का वर पाया |वही महत एक भवन बनाया||
रत्न जडित माँ का सिंघासन |करे कौन कवी जिसका वर्णन||
मस्तक बिंदिया दम दम दमके|कानन कुंडल चम् चम् चमके||
गल में मॉल सोहे मोतियन की| नक् में बेसर है सुवरण की||
हिंगलाज की रहने वाली|कलकत्ते में तुम ही काली ||
नगर कोट की तुम ही ज्वाला|मात चण्डिका तुम हो बाला||
वैष्णवी माँ मनसा तू ही |अन्नपुर्णा जगदम्बा तू ही||
दुष्टो के घर घालक तुम ही |भक्तो की प्रतिपालक तुम ही||
महिषासुर की मर्दन हारी|शुम्भ -निशुम्भ की गर्दन तारी||
चंड मुंड की तू संहारी |रक्त बीज मारे महतारी||
मुग़ल बादशाह बल नहीं जाना |मंदिर तोड्न को मन माना ||
पर्वत पर चढ़ कर तू आई|कहे पुजारी सुन मेरी माई||
इसको माँ अभिमान है भारी|ये नहीं जाने शक्ति तुम्हारी||
माँ ने भवर विलक्षण छोड़े|भागे हाथी भागे घोड़े||
हार गया माँ से अभिमानी |गिर चरणों में कीर्ति बखानी||
गुनाह बख्श मेरी खता बख्श दे |दया दिखा मेरे प्राण बख्श दे||
तेल सवा मन तुरंत चढाया |दीप जला तम नाश कराया||
माँ की शक्ति अपरम्पारा | वो समझे सो माँ का प्यारा||
शुद्ध हदय से माँ का पूजन |करे उसे माँ देती दर्शन||
दुःख दरिद्र को पल में टारी|सुख सम्पति भर दे महतारी||
जो मनसा ले तोंकू जाये |खाली लोट कभी न आये ||
बाँझ दुखी और बूढ़ा बाला| सब पर कृपा करे माँ ज्वाला||
पीकर सूरा रहे मतवाली|हर जन की करती रखवाली||
सूरा प्रेम से करता अर्पण |उसको माँ करती आलिंगन||
चेत्र अश्विन कितना प्यारा|पर्व पड़े माँ का अति भरा||
दूर दूर से यात्री आवे |मनवांछित फल माँ से पावे||
जात जडूला कर गठ जोड़ा| माँ के भवन से रिश्ता जोड़ा ||
करे कढाई भोग लगावे |माँ चरणों में शीश शुकावे ||
जीण भवानी सिंह वाहिनी | सभी समय माँ रहो दाहिनी ||
नित चालीसा जो पढ़े , दुःख दरिद्र मिट जाय |
भ्रष्ट हुए प्राणी भले , सुधर सुपथ चल आय ||
ग्राम जीण सीकर जिला, मंदिर बना विशाल |
भवरा की रानी तूँ ही ,जीण भवानी काल ||
काजल शिखर विराजती, ज्योति जलत दिन रात |
भय भंजन करती सदा ,जीण भवानी मात ||

|| दोहा ||
जय दुर्गा जय अम्बिका , जग जननी गिरिराय |
दया करो हे जगदम्बे , विनय शीश नवाय ||

 

Shri Jeen Chalisa in English

||Doha ||
Shree guru pada sumraan karun gauri nandan dhyay |
Varno mata Jeen yash, charno sheesh navay||
Jaanki ki adbhot chavi shobha warni naa jaai |
jo nit sumre maai ko kasht duur ho jaaye ||
|| Chopai ||
Jai shree jeen bhagtan sukh kari | namo namo bhagtan hit kari |
durga ki tum avtara, sakal kasht tu meit humara |
maha-bhayankar tej tumhara, mahishasur sa dusht sanghara |
Kanchan chatra sheesh paar sohe, dekhat rup charachr mohe |
tum shatri-ghar tan-ghar linha, bhakto ke sab kaaraj kinha |
maha-shakti tum sundar bala, daarpat bhoot prêit jum kala|
Bramha vishnu Shankar dhyave, rishi muni koi paar naa pave|
Tum gauri tum sharda kaali, rama lakshmi tum kapali|
Jagdamba bhavro ki rani, maiyaa maat tu maha-bhawani|
Sat paar tje jeen tumgeha, tyaga sab se shaan me neha|
Maha-tapasya karni thani harsh khaas tha bhai gyani|
Piche se aakar samjhai, ghar waapis chal maa ki jai|
Bahut kahi par ek naa maani, tab harsha yu uchari baani|
Mein bhi bai ghar nahi jau, tere saath ram gun gau|
Alag alag tap sthal kinha, raen diwas taap mein chira-dinha|
Tum tap kar durgtava paya, harsh naath bhairav ban chaya|
Wahan singh khadak kar chamke, mahatej bijli sa chamke|
Chakra, gada, trishul viraje, bhaage dusth jab durga jaage|
Mugal badshah chadkar aaya, saina bahut sajja kar laya|
Bahirav ka mandir tudwaya fir woh is mandir par dhaya|
Yeh dekh pandey ghabraye, kari stuti maat jagaye|
Tab mata tu bhore chode, saina sahit bhaage ghode|
Bal ka tej dekh ghabraya, jaa charno mein sheesh navaya|
Shama yaachna kini bhari, kaat jeen meri sab bimari|
Sone ka woh chatra chadaya, tel savaman aur bandhaya|
Chamak rahi kalyug mein mai, teen lok mein mahima chayi|
jo koi tere mandir aawe, sache man se bhog lagawe|
Choli wastra kapur chadhawe, manowanchit purn fal paawe|
Kare aarti bhajan sunawe, so nar shobha jag mein paawe|
Shekha waati dham tumhara, sundar shobha nahi sumhara|
Aswani maas navrata maa hi , kai yaatri aawe jahi|
Desh desh se aawe rela, chait maaas mein laage mela|
Aawe uuth car bas laari, bheed lage mele mein bhari|
Saaj baaj se karte gaana, kai mard aur kai janana|
Jaat jhadula chadhe apara, sawa mani ka pau na para|
Madira mein rehti matwali, jai jagdamba jai maha kali|
jo koi tumhre darshan paawe, mauj kare jug-jug sukh paawe|
Tumhi humari pitu aur mata, bhakti-shakti do he data|
Jeen chalisa jo koi gaawe, so sat path kare karwawe|
Maiya Naiiya paar lagawe, sewak charno mein chit laawe|
Doha
Jai durga jai ambika jag jannani giri rai|
Daya karo he chandika banyu shish nawaye||

Sanjay Sharma
Sanjay Sharma is the founder and author of Mission Kuldevi inspired by his father Dr. Ramkumar Dadhich. Mission Kuldevi is trying to get information of all Kuldevi and Kuldevta of all societies on one platform.

One thought on “श्री जीण चालीसा

प्रातिक्रिया दे

Top

This site is protected by wp-copyrightpro.com