देवी भागवत के अनुसार 108 शक्तिपीठ

108-shaktipeeth

List of 108 Shakti Peethas: देवी सती के भस्म हुए शरीर को जब अपने कन्धों पर धारण किये हुए भगवान शिव तांडव कर रहे थे तब जगत के कल्याण हेतु श्री विष्णु ने देवी सती के शरीर पर सुदर्शन चक्र से प्रहार कर उसे कई भागों में विभक्त कर दिया। जहाँ जहाँ ये अंग आदि … Read more देवी भागवत के अनुसार 108 शक्तिपीठ

माँ ज्वालामुखी देवी, अकबर ने भी मानी थी यहाँ हार

jwalamukhi-mata

Jwalamukhi Mata Story & History in Hindi : माता ज्वालामुखी देवी का प्रसिद्ध मन्दिर हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा से 30 किलो मीटर की दूरी पर स्थित है।  ज्वालामुखी धाम को जोता वाली का मन्दिर और नगरकोट भी कहा जाता है। कहा जाता है कि मन्दिर की खोज पांडवों ने की थी।  इसकी गणना प्रमुख शक्ति पीठों में होती है। मान्यता के अनुसार यहाँ … Read more माँ ज्वालामुखी देवी, अकबर ने भी मानी थी यहाँ हार

बम्लेश्वरी माता मन्दिर, जहाँ से जुड़ी है एक प्रसिद्ध प्रेम कहानी

bamleshwari-mata

Bamleshwari Mata History in Hindi: माँ बम्लेश्वरी देवी का का प्रसिद्ध मन्दिर छत्तीसगढ़ राज्य के राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ में स्थित है।  छत्तीसगढ़ राज्य की सबसे ऊँची चोटी पर विराजमान माँ बम्लेश्वरी देवी का इतिहास प्राचीन है। वैसे तो यहाँ देवी माँ के दर्शन करने के लिए साल भर भक्तों का रेला लगा रहता है, परंतु नवरात्रि में … Read more बम्लेश्वरी माता मन्दिर, जहाँ से जुड़ी है एक प्रसिद्ध प्रेम कहानी

देवी माँ ने क्यों लिया भ्रामरी देवी और शाकम्भरी माता का अवतार ?

bhramari-devi-and-shakambhari-mata

Bhramari Devi and Shakambhari Mata Avtar story in Hindi : माँ जगदम्बा ने समय-समय पर जगत के कल्याण के लिए कई अवतार लिए।  उन अवतारों को लोक में पूरी श्रद्धा के साथ पूजा जाता है।  देवी माँ के कुछ अवतारों को कुलदेवियों  के रूप में स्वीकार किया गया।  ऐसे ही अवतारों में से दो अवतारों के … Read more देवी माँ ने क्यों लिया भ्रामरी देवी और शाकम्भरी माता का अवतार ?

लिंगई माता: यहाँ लिंग के रूप में होती है देवी की पूजा

Lingai Mata Temple Chhattisgarh Story in Hindi : छत्तीसगढ़ के अलोर ग्राम में देवी का एक अनोखा मन्दिर विद्यमान है।  इस मन्दिर में देवी की पूजा लिंग के रूप में होती है। या यों कहें कि यह ऐसा शिवलिंग है जो देवी के रूप में पूजा जाता है। इस मंदिर में देवी की पूजा लिंग रूप में … Read more लिंगई माता: यहाँ लिंग के रूप में होती है देवी की पूजा

सिमसा माता मन्दिर- जहां फर्श पर सोने से नि:संतान महिलाओं को मिलती है संतान

Simsa Mata Temple  Himachal Pradesh : हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के लड़-भड़ोल तहसील के सिमस नामक खूबसूरत स्थान पर स्थित है सिमसा माता का प्रसिद्ध मन्दिर। इस देवी धाम का चमत्कार यह है कि यहाँ देवी निःसंतान महिलाओं की सूनी गोद भर देती हैं। देवी सिमसा को संतान-दात्री के नाम से भी जाना जाता … Read more सिमसा माता मन्दिर- जहां फर्श पर सोने से नि:संतान महिलाओं को मिलती है संतान

तरकुलहा देवी – यहाँ क्रांतिकारी बाबू बंधु सिंह ने दी थी कई अंग्रेजों की बलि

Tarkulha Devi Temple Gorakhpur History in Hindi : गोरखपुर से लगभग 20 किमी. तथा चौरी-चौरा से 5 किमी. की दूरी पर स्थित है देवी तरकुलहा माता का मन्दिर। तरकुल अर्थात ताड़ के पेड़ के नीचे स्थापित होने से यह देवी तरकुलहा कहलाई। यह मन्दिर अपने भक्तों की आस्था का मुख्य केंद्र है।  इसका सर्वाधिक महत्त्व यह है … Read more तरकुलहा देवी – यहाँ क्रांतिकारी बाबू बंधु सिंह ने दी थी कई अंग्रेजों की बलि

जानिए कैसे पड़ा माता शक्ति का नाम दुर्गा ?

durga-mata

How Goddess got her name Durga : पुरातन काल में दुर्गम नामक दैत्य ने स्वर्गलोक में भारी हाहाकार मचा रखी थी। उसने भगवान ब्रह्मा को प्रसन्न कर सभी वेदों को अपने वश में कर लिया था  जिससे देवताओं का बल क्षीण हो गया। दैत्यराज दुर्गम ने देवताओं को परास्त करके स्वर्ग पर अपना आधिपत्य जमा लिया। तब देवताओं को देवी … Read more जानिए कैसे पड़ा माता शक्ति का नाम दुर्गा ?

तनोट माता मंदिर जैसलमेर– जहां पाकिस्तान के 3000 बम हुए बेअसर

tanot-mata

तन्नोटराय का मन्दिर (Tanot Mata Temple Jaisalmer)  Tanot Mata Temple Jaisalmer History in Hindi : आठवीं शताब्दी के उतरार्द्ध में भाटी तणु राव ने तन्नोट में देवी स्वांगियां का मन्दिर बनवाया। यहाँ पर सैंकड़ों वर्षों से अखण्ड ज्योति आज भी प्रज्वलित है। तणु राव के नाम पर ही देवी स्वांगियां को ‘तणुटिया’ ‘तन्नोट’ राय देवी के … Read more तनोट माता मंदिर जैसलमेर– जहां पाकिस्तान के 3000 बम हुए बेअसर

माता दुर्गा ने एक तिनके से तोड़ा देवताओं का घमंड

Durga Mata Broke Proud of the Gods : एक बार देवों और दानवों में युद्ध छिड़ गया। इस युद्ध में देवता विजयी हुए परंतु इस विजय से उनके मन में अहंकार उत्पन्न हो गया। वे  स्वयं को सर्वश्रेष्ठ कहने लगे। जब जगदम्बा आदिशक्ति दुर्गा ने देवताओं को इस प्रकार अहंकार से ग्रस्त होते देखा तो वे … Read more माता दुर्गा ने एक तिनके से तोड़ा देवताओं का घमंड

This site is protected by wp-copyrightpro.com