kuldevi-list-of-gurjar-gaur-samaj

गुर्जर गौड़ ब्राह्मण समाज की कुलदेवियाँ | Gurjar Gaur Brahmin Samaj Gotra-Kuldevi List

गुर्जरगौड़ ब्राह्मण समाज का परिचय | Gurjar Gaur Brahmin Samaj

Gurjar Gaur Brahmin Samaj in Hindi: सृष्टिकर्ता ब्रह्मा के दस पुत्र हुए, जिनमें मरीचि, अत्रि, अंगीरा, पुलस्त्य, पुलह, ऋतु, भृगु, वशिष्ठ, दक्ष, और नारद थे। इनमें से महर्षि भृगु के परब्रह्म नामक पुत्र हुआ था। वे गौड़ देश में जन्मे थे और उनके पुत्र कृपाचार्य थे। कृपाचार्य के शक्ति शर्मा थे और उनके पुत्र महर्षि गौतम थे। गुर्जरदेश के राजा चक्रवर्ती गुर्जरकर्ण ने महर्षि गौतम को आराध्य माना।

एक समय भ्रमण करते हुए गुर्जर कर्ण जनकराय के राज्य में पहुँचे। वहाँ सिंह और मृग एक साथ विचरण कर रहे थे, लताएँ फूलों से लदी हुई थीं और अनेक वृक्ष फलों से लदे हुए थे। इस क्षेत्र को देखकर, राजा चकित रह गया और सोचा कि यह किसी ऋषि का आश्रम है। जब उन्होंने ब्राह्मणों से पूछा, तो उन्होंने उत्तर दिया, “हे राजा, जिस स्थान पर आप खड़े हैं, वह महान ऋषि गौतम का आश्रम है, जो ब्रह्मऋषियों में सर्वोच्च तपस्या का भंडार है।” यह सुनकर, राजा ने अपने सभी भौतिक विलास की सब सामग्री को आश्रम के बाहर छोड़ दिया और ऋषि का आशीर्वाद लेने के लिए अंदर चले गए। वहाँ, उन्होंने पिपलाद ऋषि के बारह पुत्रों – वत्स, गौतम, शांडिल्य, गर्ग, मुद्गल, कश्यप, भारद्वाज, वसिष्ठ, औशनस, अत्रि, पराशर, और कौशिक – सभी को कानून और नैतिकता के शास्त्रों का अध्ययन करते हुए और विद्वान तपस्वी ऋषि गौतम को देखा। राजा ने मुनि के चरणों में गिरकर प्रणाम किया। उन्होंने कहा, “हे महान ऋषि, आपके आशीर्वाद से, मेरे सभी पाप धुल गए हैं और मेरी सभी इच्छाएँ पूरी हो गई हैं।” ऋषि ने भी राजा का हालचाल पूछा।

राजा ने ऋषि गौतम से अनुरोध किया, “हे महान ऋषि! प्रजा भोजन और पानी की कमी से पीड़ित है। कृपया कोई समाधान निकालें।” तब, गौतम ऋषि ने राजा के राज्य में बारिश लाने के लिए अपनी आध्यात्मिक शक्ति का इस्तेमाल किया। इस वर्षा से लोगों का ऋषि के प्रति विश्वास बढ़ गया और वे उनकी स्तुति करने लगे।

मुनि ने एक योजन भूमि में विभिन्न प्रकार के अन्न का उत्पादन किया और लोगों से कहा कि जिसे इसकी आवश्यकता हो वह इसे ले सकता है, परमात्मा सबकी जरूरतों का ध्यान रखेंगे। इस तरह ऋषि ने लोगों का पालन किया। ऐसा कहा जाता है कि जैसे-जैसे ऋषि की प्रसिद्धि बढ़ती गई, कुछ ब्राह्मण ईर्ष्या करने लगे और उन्होंने उन पर तरह-तरह के दोषों का आरोप लगाया। इन आरोपों  संतप्त ऋषि तीर्थ यात्रा पर निकल गए।

घूमते-घूमते वह एक शिव मंदिर पहुंचे और वहीँ रूककर तपस्या करने लगे। उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर भगवान शिव और पार्वती उनके सामने प्रकट हुए। ऋषि ने भगवान के भक्त होने और हमेशा भगवान के भक्तों  के संग का वरदान मांगा।

एक वर्ष की तपस्या के बाद, ऋषि गौतम पुनः पुष्कर लौट आए। राजा ने उनका स्वागत किया और उनसे पुत्रेष्टि यज्ञ करने का अनुरोध किया। मुनि ने यज्ञ किया। गौतम स्‍वयं आचार्य बने, उनके शिष्‍यों में से कोई ब्रह्मा कोई ऋत्विक कोई होता उपदेशिष्‍टा आदि याज्ञिक बने।पुत्रों में से कोई वरण और कोई यज्ञ के उपस्‍कृत्‍य में नियत हुए, बाकी कुल ब्राह्मण भूयसी दक्षिणा के अधिकारी हुए। यज्ञ की समाप्ति पर यज्ञ कुंड से अग्निदेव हाथ में पायस का पात्र लेकर प्रकट हुए। रानी को भोजन के साथ पायस दिया गया और इस प्रकार वह गर्भवती हो गई। इसके बाद राजा ने ऋषि से कुल पुरोहित बनने का अनुरोध किया तो ऋषि ने उत्तर दिया कि उनके 12 शिष्य व पुत्र तुम्हारे साथ रहेंगे और तुम्हारे पुत्रों के कुलगुरु और पुरोहित बनेंगे। इतना कहकर मुनि अपनी पत्नी अहिल्या के साथ साधना के लिए वन को लौट गए। गौतम के 12 शिष्य राजा के पुत्रों के गुरु बने। जिन राजपुत्रों ने ऋषि के इन पुत्रों के साथ अध्ययन किया, उन्होंने अपने गोत्र का नाम अपने संबंधित ऋषि के नाम पर रखा और गुर्जर देश में रहकर और गुर्जरकर्ण द्वारा सम्मानित होने के कारण, वे गुर्जरगौड़ ब्राह्मण के रूप में जाने गए। ये गौतम के पुत्र हैं, और इस प्रकार, उन्हें गौड़ नाम मिला और गुर्जर देश में रहने के कारण गुर्जर के रूप में जाना जाने लगा। इस तरह वे गुर्जरगौड़ ब्राह्मण कहलाने लगे। 

उनके नाम निम्न है –

  1. वत्स
  2. भृगु के पुत्र उशना से औशनस
  3. अत्रि
  4. गर्ग
  5. कश्यप
  6. पराशर
  7. कौशिक
  8. मुद्रल
  9. गौतम
  10. भरद्वाज
  11. वसिष्ठ
  12. शाण्डिल्य।

Kuldevi List of Gurjar Gaur Samaj गुर्जर गौड़ ब्राह्मण समाज के गोत्र एवं कुलदेवियां 

गुर्जर गौड़ ब्राह्मण समाज की कुलदेवियों का विवरण इस प्रकार है –

सं.कुलदेवीउपासक अवटंक (सामाजिक गोत्र) (Gotra of Gurjar Gaur Samaj)
1.अंबामाता आमद्या, आमेद्या, आहुआ, हाउआ, डाबड्या।
2.आशापुरीमाताआजसर्यां, ओसर्यां, उजसरिया, ओकोड्या, आंचरोद्या, लाछूवाल, लछीवाल, खिच्या, गोवल्या, चुलैट, झुंझडोद्या, जूसडोद्या, पोपडोद्या, फोगोन्या, बच्छ, बीलू, सांकवा, सांकल, सुलतान्या, सुवाल, सीवार, सिंवाल, छुवार, सामर्या, सहार्या।
3.आनन्दीमाताआंतर्या, कंसूबीवाल।
4.ईश्वरीमाताआछर मरूआ, ईछर मरुआ।
5.कूलमजीकंसूबीवाल, कुंडोरा, कुडोल्या।
6.कालिकामाताजाजोद्या, जुजोद्या, सापा, काचरोद्या, कमचर्या, कंचिया।
7.कैवायमाताकायथा, काहिता, नानण्या, चुलहट, चुलैट, सांखी, छिंछावटा, छिछाहोटा, सागोन्या, जांगला, पीसागन्या चचाणी, मेघासर्या, कोलासर्या।
8.खींवजमाता आंवल्या, खीमसर्या, कीमसर्या, कीवसर्या, प्लेट, प्लोट, पलहट, बमोरीवाल, डीडवान्या, नीवान्या।
9.चामुण्डामाताजांचा, कागवा, कांगल, रोणीजा, थोथा, कांसल्या, कुडक्या, चाडसूइम, चाटसूवा, चाष्टा, चाहड़होटा, चुरोल, चुड़ोल्या, जखीमा, बाणारस, जठाण्या, जसथूण्या, जसताण्या, जाजपुरिया, थड़ीवाल, तड़ूक्या, ततीक, नरेड़ा, नरहड़ा, नरौल्या, ममान्या, रसत्वाड्या, सरसू, सरसवा।
10.जोगेश्वरीमाताअदरूपा, अदरोज्या।
11.जाखनमाताआमल्या, कलवाड्या,करवाड्या, खटवड़ा, लदाण्या, लधाण्या, लाईवाल।
12.जमवाय माताझूंझडोद्या, जूसडोद्या।
13.ज्वाला (जालपा) मातानरदू, नावरिया, बागदा, मरुआ।
14.जीणमाताकांसल्या, कुरच, कुरच्या, बबूला, भमोरया, गुंदाड्या, जांगला, पीसांगन्या, बीसल, थीरपाल, चचाणी, मेघासरिया, कोलासरिया, दूधा, दूधवा, दूदू, नौगर्या, नौगरा।
15.बटवासन माताआकथड्या, कुरचा।
16.पण्डूकामाताकुडक्या, पाण्डुन्या।
17.पिप्पलादमाताजांचा, कागवा, कांगला, रोणीजा, थोथा, कुरच।
18.बड़वासनमाताकुचीला, थांवल्या, थावर, पहाड्या, बघेरवाल, बड़ोद्या, बरडोद्या, बरड़ा, बड़ला, बंडेला,सालोल्या, हालोल्या।
19.बडख़णमाता कुचीला, नारायण्या, बबेरवाल, बवारीवाल।
20.बीसभुजीमाता कांट्या।
21.भंवालमाताकुडक्या, बरनेला, भुंवाल्या, भंवाल्या, जाजड़ा।
22.ब्रह्माणीमाताखटेवड़ा, दूधडोल्या, पाईवाल।
23.बीजलमातागोपद्या, चाटसूवा।
24.संचाय (सच्चियाय, सचवाय, सचवासन) माताखुडाना, खुरानिया, जोदासर्या, हरक्या, हरज्या, राजव्या, राया, सिरोल्या,   सुराल्या,  सुरल्या।
25.हिंगलाजमातालीलछड़ा, नीलछड़ा, केथून्या।

जिन कुलदेवियों व गोत्रों के नाम इस विवरण में नहीं हैं उन्हें शामिल करने हेतु नीचे दिए कमेण्ट बॉक्स में  विवरण आमन्त्रित है। (गोत्र : कुलदेवी का नाम )। इस Page पर कृपया इसी समाज से जुड़े विवरण लिखें। गुर्जर गौड़ समाज से सम्बन्धित अन्य विवरण अथवा अपना मौलिक लेख  Submit करने के लिए Submit Your Article पर Click करें।आपका लेख इस Blog पर प्रकाशित किया जायेगा । कृपया अपने समाज से जुड़े लेख इस Blog पर उपलब्ध करवाकर अपने समाज की जानकारियों अथवा इतिहास व कथा आदि का प्रसार करने में सहयोग प्रदान करें।

227 thoughts on “गुर्जर गौड़ ब्राह्मण समाज की कुलदेवियाँ | Gurjar Gaur Brahmin Samaj Gotra-Kuldevi List”

    • Dear Mr Rajesh
      Spelling for our surname is Geel.
      Our forefather had grown a calf by feeding Ghee so they called by Geel surname.
      I am also from Atri gotra but don’t know our kuldevi. If you get let me now also

      Reply
  1. कृपया गौत्र रेवाल ,कुलदेवी सुरई अथवा सुनहज माता के मंदीर का पता बताने का सहयोग करे ।

    Reply
  2. जय गौतम जी, आशापुरी माता के मंदिर का पूरा पता बताना

    Reply
    • बड़खण माता, बड़वासन माता, अर्थात बड़ के पास व बड़ की माता ये तीनों एक ही कुलदेवी के नाम है जिनका स्थान मुंडवा मारवाड़ नागौर जिले में स्थित है

      Reply
      • धमोत्या गोत्र की कुलदेवी तो ” धमवाय ” है । पर है कहाँ या समय के साथ इनका नाम बदल गया या कुछ ओर हुआ ये पता नहि है । पर नाम ” धमवाय माता ” ही है ।।

        Reply
        • धामोत्या गोत्र की कुलदेवी धमवय माता ग्राम छारेड़ा जिला दौसा में है सती माता का स्थान भी वही पर है

          Reply
      • भैया गुन्नारिया जोशी की कुल देवी कोन है

        Reply
    • धमोत्या गोत्र की कुलदेवी तो ” धमवाय ” है । पर है कहाँ या समय के साथ इनका नाम बदल गया या कुछ ओर हुआ ये पता नहि है । पर नाम ” धमवाय माता ” ही है ।।

      Reply
  3. होकम ग्वाल आचार्य की कुल देवी कहा है और नोसलिया तिवाड़ी की भी

    Reply
  4. Pls tell me kuldevi name and place . We are sankhyacharya (vashishtha)
    Our origine is from kunjed village . Kul devta choutha maytha bheru ji near kunjed baran(Raj).

    Reply
  5. बोरवाली माता ब्यावरा राजस्थान
    गुर्जरगौड़ ब्राह्मण उपाध्याय समाज की कुलदेवी।

    कृपया गोत्र बताने का कष्ट करें।

    Reply
    • नैना माता कुलदेवी हैं पर सही स्थान को लेकर आज तक पता नहीं चला

      Reply
  6. Jhadoliya झाडोलिया गोत्र कुलदेवी कोंन सी है

    Reply
  7. नौसाल्या तिवाडी कि माता का नाम नही है।

    Reply
  8. बरनैला तिवारी की कुल देवी कोनसी है।

    Reply
    • पाण्डुका भुवाल माता खेड़ा नबरा सोजत पाली राजस्थानत
      7891107365

      Reply
  9. कृपया साभरिया चौबे की कुल देवी कौनसी है
    और कहा है बताए/
    Mo 9667486011

    Reply
  10. गुनारड़ियाँ तिवारी की कुलदेवी कोनसी है

    Reply
  11. मेरी जानकारी के अनुसार नोशाल्या तिवाड़ी की कुलदेवी नैनादेवो है जो कि हिमाचल प्रदेश में जिला बिलासपुर में स्थित है।
    रवि प्रकाश तिवाड़ी, अजमेर (राज.)
    मो. – 9414608972

    Reply
  12. कृपया करके गुनालड़िया तिवाड़ी की कुलदेवी की जानकारी उपलब्ध करायें, आपकी बड़ी कृपा होगी।
    निर्मल तिवाड़ी, नागौर (राज.)
    Mob. 7666986831

    Reply
  13. jankari bahut achhi he kintu isme kudkiyo ki teen-teen mataye di hui hen jara iska arth batayen.
    dusra luwan ya lohiyan joshi ki kul devi dundne ka kast karen.
    sarahniya prayas ke liye aap ka punh dhanywad

    Reply
  14. Mai Raneja joshi hu gotra bhardwaj aur badi manda Rajasthan se hu ab Maharashtra main Rahta hu muze meri kuldevi ka nam aur pata chahiye pls kisiko malum ho to bata de pls

    Reply
  15. Goutam gotra ki Pandeta ki kuldevi ka naam Aantrayani Mata h si ya konsi hai please Kuldevi ka naam batana.

    Reply
  16. ऋषि तिवारी गोत्र गुर्जर गोड ब्राह्मण की कुलदेवी /कुलदेवता कोन है और कहा पर है। कृपया पूरा नाम पता बताने का कष्ट करे।

    Reply
    • मेरी जाती गुर्जर है गोत्र कालस है पर मेरी कुलदेवी का नाम नहीं मालूम

      Reply
  17. Hamara gotre chamunda hain hmari kuldevi dant mata jamvaramgrah mein stith hain kripya eska bhi vivran kuldeviyo or gotre mein jodne ka kast kare

    Reply
  18. उपाध्याय (भारद्वाज छिपाव) की कुल देवी हमारे पुर्वजौ के बताये अनुसार चॉमुन्डा माता है, जबकि आपके लिखीत सुची में जीवणमाता दर्शाया है कृपया सत्य में कोनसी माता है विवरण मे अवश्य बताये,

    Reply
  19. गुणदाडया गुर्जर गौड़ ब्राह्मण की कुलदेवी कौन है एवं उनका मंदिर कहाँ है, ईसकी आपको जानकारी हो तो शीघ्र बतानें का कष्ट करें।

    Reply
    • गालरिया जोशी गौत्र की कुलदेवी कहांंहै।

      Reply
  20. Gundadya joshi, gurjar brahman. Ki kuldevi kon he and unka temple kahan he? Yadi aap bata sake to please jaldi bataye….

    Reply
  21. कठास्तला जोशी की कुलदेवी कोनसी है।
    ओर कहापर है।

    Reply
  22. कठास्तले जोशी की कुल देवी-देवता कोनसे है ओर कहापर है

    Reply
  23. Jangla ki kuldevi KAIVAY MATAM de gai he parantu Jangla ki kuldevi CHAMUNDA MATA he aisa kuch logo ka mat he please sahi jankari uplabdh karwaye

    Reply
  24. सर में गुजर्र गौड़ bhraman हु मेरा गोत्र अवलिया जोशी है हमारी कुलदेवी कोंन सी है कृपा करके हमे बताये आप से अनुरोध है सर

    Reply
    • गुर्जरगोड समाज मे श्रोत्रिय गौत्र कि कुलदेवी माता & सतीमाता कौनसी है & कंहा पर है कृपया पुरा पता बताने का कष्ट करे

      Reply
      • भईया पता चला क्या क्षेत्रीय गोत्र की कुल देवी और कुल देवता

        Reply
  25. सर काटातला उपाध्याय की कुल देवी का नाम व पता जानकारी देने की कृपा करें
    आपका
    मांगी लाल उपाध्याय

    Reply
  26. Sankhi gotra ki kul devi kumarika mata (Kanya kumari hai.)
    I think you have wrongly mentioned kewaymat or it may be synonim of kanya kumari ?

    Reply soon,

    Reply
  27. गोत्र रेवालाचारय 2 भारतोदडिया व्यास इन गोत्र की कुल देवी कोन है

    Reply
  28. गुर्जर ब्राह्मण समाज की कुलदेवी और कुलदेवता के नाम जानने के लिए मुझे फेसबुक पर सर्च करे”ramvilas gautam” note:-किसी भी जानकारी से पहले आपको आपका आवन्टक या उपगोत्र , गोत्र बताना होगा ये जानकरी गुर्जर गौड़ समाज की आवन्टक या उपगोत्र , गोत्र, कुल देवता, की लिस्ट के आधार पर होगी
    कुलदेवी ,

    Reply
    • Not able to find Gotra Ladacharya in kuldevi mission, but as per gurjar gaud uttapatti, Its Mata Chamunda, Shrinagar Rajasthan

      Reply
  29. Nabriya ki mata bhawal mata he

    Kya aap me su koi bata sakta he ki Rajasthan me se nabriya kaha ke rehne wale the
    Hamara beruje Pali dist me ke soujyo road manda me he

    Plz kise pata ho to batana mera no 8308915555 akash joshi Maharashtra

    Reply
  30. आपके लेख पढ़ कर काफी जानकारी मिली जो आज तक हमें पता नहीं थी | मैं हैहयवंशी क्षत्रिय कसार समाज से हूं | मेरा गोत्र बरहा है | अगर आप मुझे कुलदेवता का नाम बता सकतें हो तो बहुत कृपा होगी |
    धन्यवाद.

    Reply
  31. राजस्थान मेड़ता सिटी के पास लगभग 25 किलोमीटर दूर भुवान माता मंदिर है। भुवाल माता के साथ गुगल माता भी विराजमान है। जो जाजङो की कुलदेवी है। कृपया कुलदेवी माता के साथ माता के मंदिर का स्थान भी लिखें। ताकि कुलदेवी के साथ मंदिर के स्थान की जानकारी भी हो।

    Reply
  32. gurjargaud Brahmin gotra Lohar Joshi surname Joshi ke Bheruji aur Kuldevi Osho Shakti kahan hai hame koi pata nahi hai Pahle wale Ne nahi bataya hai yadi kisi ko pata hai To Bataye dhanyavad

    Reply
  33. Plz gujargaur brahmin rajora ke keldevi kha h Jaipur near chakshu aap me se kisi Ko bhi ydi pta ho to plz reply kriye bcoz I don’t know my kuldevi plzz tall me same things about my kuldevi

    Reply
  34. सलोलिया गोत्र की कुल देवी सनेश्वरी माता है इसका मंदिर कँहा है जबकि सती माता मंदिर तो सिंगड गांव नागौर से फलोदी रोड पर नागौर से निकलते ही 10 kmपर है
    आप ने बड़वासन माता को कुल देवी बताया है सलोलिया गोत्र की सत्य क्या है
    ओम प्रकाश शर्मा (सलोलिया)
    Vill and post जमवारामगढ़
    जिला जयपर राजस्थान
    पिन 303109

    Reply
  35. Mujhe hamari kuldevi ka PTA batana plz naranya Joshi ki kuldevi badkhan mata h yha mandir kis jagah h plz tell me my mob .n 9785251569

    Reply
  36. Plz tell me about Nausaliya Tiwari Gotra….Kuldevi….Addres…
    We are from gujar gaud .samaj………..lives in ujjain M.P.

    Reply
  37. gujargaur brahmin salolya ki kuldevi badwasan mata mundwa me btai gai h pr jab ham waha pahuche to wo lodha samaj ki bta rahe h plz tell me ki kya ye hi hamari kuldevi h ya koi aur hmari kai pidhoyo ko nhi pata ki hamari kuldevi kon h agr kisi ko pta h to plzzzz help me

    Reply
  38. We are thavliya Joshi,mudgal gotra gujar gaur . kindly let me know the location of Badwasan Mataji .regards n many thanks for the mission kuldevi initiative .

    Reply
  39. हम गुजर गौड़ समाज के मुदगल गोत्र के थावलिया जोशी है ।मुझे पता चला है हमारी कुलदेवी बड़वासन माताजी है।कृपया बताएं कि माताजी का स्थान /मंदिर राजस्थान में कहाँ पर है।ध्यानवाद ।

    Reply
    • बडवासन माता जी का एक मंदिर मेड़ता सिटी, जिला नागौर मे हे दूसरा मंदिर सोनवा, जिला टोंक मे हे एक और स्थान मेड़ता से नागौर रास्ते पर मूंडवा के पास हे

      Reply
  40. गौत्तम जी ,नमस्कार हमारा गोत्र राजोरा जोशी है कृपया हमारी कुलदेवी कौन है और कान्हा कहा है बताने की कृपा करे

    Reply
  41. सुलतान्य जोशी की कुलदेवी कौन सी है और कहाँ पर विराज मान है

    Reply
  42. Barnel Tiwari / Nabariya ki Kuldevi Phanduka Bhawaya Mata hai v mandir Adress Village Khera Nabra Post Guda Shyama Vaya Sojat Road Tehsil Sojat Distt. Pali marwar Rajasthan me hai jinak varsik Kaykram har Vars hota hai aagami karkram dinak 12 v 13 Janvary 2019 hai

    Reply
  43. Sanjay g kya badwasan v badkhanmata dono ek hi to nahi hai kyonki mere pita g mujhe kuldevi ka naam bad ki devi btate hai jiska Mandir apne mundwa me btaya hai aur ek mandir bhilwara ke paas bharak main bharka davi ka mandir hai kya aap meri kuldevi ka sahi sthan btane me madad kar sakte hai

    Reply
  44. Dudhiya joshi ki kuldevi kon h aur kaha h pl bataye. Aur kuldevta kon h aur kaha p h vh b bataye. Mere dadaji ki gaon maradi h. Dis. Basoli.

    Reply
  45. Please Lohima Upadhay gotra ki KulDevi & Kuldevta kon hai and mandir kaha hai……………………………….
    Mo. 9982722623

    Reply
  46. गुर्जरो के गोत्र चेची समाज की कुल देवी इसमे नही है किसी को मालूम होतो बताए तहसील आमेर ग्राम कुशलपुरा

    Reply
  47. Bharjwal gotra gurjar god brahmin ki kuldevi rajasthan ke Pali k KHERWA gaon me vijaynadi mandir he waha ” Naarsingi mata” he.

    Reply
  48. में गुजरगोड़ (गुना डिया तिवाडी गोत्र वत्स ) हूं।
    मुझे कुलदेवी की जानकारी चाहिए।

    Reply
  49. कटासला गोत्र की कुलदेवी कौन सी है और इसका मंदिर कहां पर है

    Reply
  50. नमस्कार, मेरा नाम गौरव जोशी है। मैं गालरिया जोशी (गुर्जरगौड ब्राह्मण ) हूँ। कृपया मुझे मेरी कुलदेवी की जानकारी प्रदान करने की कृपा करें।

    Reply
  51. Kunbi leva patil (rane) ki kul dev devi konti. Gotra gauttm aahe.gottma Mata delvade gujrat sagitle aahe te sapdat nahi.madat kara

    Reply
  52. भारद्वाज ब्राह्मण की कुल देवी कहा पर है

    Reply
  53. गुर्जर गौड़ ब्राह्मण समाज के गौतम गोत्र, अवन्टक ढींगसरा जोशी की कुलदेवी देवीया
    1. धोलासन माता का मंदिर गुजरात के मेहसाणा में धोलासन गांव में हैं मंदिर में चामुंडा माता धोलासन के रूप की पूजी जाती हैं
    2.धोलेश्वरी /धौलागढ़ माता:-धोलेश्वरी माता का मंदिर कठूम्बर तहसील के पहतुकला पंचायत समिति के धौलागढ़ गांव में हैं माता की अष्ट भुजा वाली प्रतिमा हैं तथा माता के दोनों तरफ एक एक छोटी प्रतिमा हैं जो संभवतया ब्राह्मणी और इन्द्राणी हो सकती हैं , पास ही भैरव बाबा का मंदिर भी हैं ।
    2. ढीकसन माता मंदिर :-अज्ञात ??

    Reply
    • ढीकासन माता का मंदिर अलवर में तातारपुर से बहरोड़ पर हैं माता के मंदिर का नाम ढकवासन माता मंदिर हैं ।

      Reply
    • नौशालिया तिवारी की सती माता जहाजपुर के पास पीपलूड पर तालाब की पाल पर बिराजमान है
      मंदिर बना हुवा है

      Reply
    • में गुर्जर गौड़ ब्राह्मण हु और मेरी गौत्र रोहिवाल/रोइसवाल हैं।कृपया हमारी कुलदेवी का नाम और कुलदेवी के मंदिर के स्थान के बारे में पूरा विवरण दे।

      Reply
      • में गोपाल गौतम गुर्जर गौड़ ब्राह्मण हूँ ! मेरी गौत्र रोहीवाल / रोहिसवाल / रोईसवाल हे और ऋषि गौत्र ” मुद्गल ” हे ! कृपया हमारे गौत्र की कुलदेवी का नाम और स्थान का पूर्ण विवरण बताने के कष्ट करावे !

        Reply
  54. संजय शर्मा जी जय श्री राम
    गुर्जर गौड़ समाज में ढींगसरा गौत्र होता हैं जिनकी कुलदेवी धोलासन हैं जिसका मंदिर गुजरात के मेहसाणा के अन्तर्गत धोलासन गांव में चामुंडा माता का मंदिर हैं । उसकी जानकारी भी डालिये ।

    Reply
  55. झड़ोलिया जोशी गोत्र (गुर्जर गौड़ गौतम ब्रह्मण समाज) की कुलदेवी कोन्सी है और उनका मंदिर कहा पर स्थित है

    Reply
    • नारायण्या जोशी , बडेखन or बड़खन माता
      माहिती हेतु संपर्क करें ९८२२६६९९९६

      Reply
  56. गुर्जर जाति के बागड़ी गोत्र की कुलदेवी का नाम बताएं और स्थान का नाम बताएं

    Reply
  57. नोसाल्या तिवाड़ी, की कुलदेवी के बारे मैं सही जानकारी हो तो बताये।

    Reply
  58. अभी भी जिन्हें अपने लिए जानकारी ना मिल पाई हो कृपया मुझे 9755279857 नम्बर पर सम्पर्क करें।
    सिर्फ व्हाट्सप्प ही करे।

    Reply
  59. सोहन महाराज Bansilal “गुजर godh” पुस्तक हो तो bejo mo 8976107485

    Reply
  60. Badkhan mata ka Mandir knha stith hai or hamari shakha or kuldev kon hai ye bhi btayega or hamara ved konsa hai plz jankari avasy de

    Reply
  61. मेरा नाम प्रहलाद जोशी है।में गुर्जर गौड़ ब्राह्मण हूं और मेरी कुल गोत्र बागलिंडा जोशी है। हमारी सती माता राजस्थान के भीलवाडा जिले के एकलिंग पूरा गाव में तालाब के किनारे पर एक मन्दिर में विराजमान हैं। पर हम हमारी कुल देवी और कुल देवता के नाम और स्थान का कुछ भी पता नहीं है। कृपा करके कुछ पता है तो बताए।

    Reply
  62. राजोरा गोत्र की कुलदेवी को हे और उनका स्थान कहा है कृपया बताने की कृपा करें

    Reply
  63. मेरा गोत्र लुआ जोशी है
    मेरी कुलदेवी का मंदिर कहा पर है
    वह क्या क्या पूजा होती ह बताऊँ

    Reply
  64. सर जांगडा उपायाय की कुल देवी कोनसी है और कंहा है

    Reply
  65. नौशल्या तिवारी की कुलदेवी कोंसी है और उनका स्थान कोनसा है । और यदि कुलदेवता कोंसे हैं तथा उनका स्थान भी बता सकते हो तो बहुत मेहरबानी होगी धन्यवाद

    Reply
  66. झाडोळ्या उपाध्याय की कुलदेवी कौनसी ओर कहा है?

    Reply
  67. झाड़ोलिया जोशी कुल की कुलदेवी कोन सी है तथा कहा पर है?

    Reply
  68. घील गुर्जर गौड की कुलदेवी कोनसी है और मंदिर कहा है

    Reply
    • Lagta hain is history likhne wale ye bhul gye ki maa Harsiddhi bhi inme se important hai. Jinki raksha swayam Ujjain ke Mahakal karte Hain

      Reply
  69. राजदोल्या/राजडोल्या गौत्र की कुलदेवी पाराशरी माता है क्या? इनका स्थान कहां है।

    Reply
  70. सर शांडिल्य गोत्र पंचारिया जोशी हे| हमारी कुलदेवी का नाम और स्थान बताइये सर

    Reply
  71. सर मेरा नाम विष्णु शर्मा है मै गुर्जर गौड़ समाज से हु मुझे कृपया मेरे श्रौत्रिय गोत्र की कुलदेवी एवं कुलदेवता के बारे मै बताने का कष्ट करें धन्यवाद 7300325961

    Reply
  72. गुर्जर गौड़, तिवाड़ी, कुलदेवी चामुंडा माता, खंडेला सीकर।

    Reply
  73. Bijarniyan Pancholi ki kuldevi KITAJ MAHARANI ka mandir Jahazpur, dist-shahpura(bhilwara), rajasthan me hai. jis kisi pancholi bhai ko aana ho to 6377702993, 6377657520, 9351925273 par sampark kare.
    ANTRIX PANCHOLI

    Reply
  74. कुछ जातियां यह पर इस आर्टिकल में वंचित है जो की गुर्जर गौड़ ब्राह्मण समाज में ही आती है इसलिए में अनुरोध करना चाहता हु की उसे पूरा करें रिसर्च करके, दूसरी बात में समाज के सभी सज्जन व्यक्तियों से कहना चाहूंगा की हमारे समाज में बहुत सारी जातियां देखने को मिल रही है और गौत्र के साथ भी इसलिए कुछ लोग ऐसे भी है जो अपने बच्चो का विवाह कुछ गिनी चुनी जातियों में या जो सिर्फ उनकी जानकारी में हो उसमे करवा के अपने आप को सही समझते है लेकिन असल में वो अशास्त्रिय है क्युकी अगर हमारी ७ पीढ़ी तक गौत्र न मिले तो ही हमे अपने वंश को आगे बढ़ाने के इस पवित्र संस्कार को करवाना चाहिए अगर हम गिनी चुनी ५,६ जातियों में ही विवाह करेंगे तो अनुवांसिकता में संकरता देखने को मिल सकती है जो की किसी के लिए सही नही है , इसलिए मेरा अनुरोध है की विवाह संस्कार से पहले कम से कम इतना जरूर रिसर्च किया जाए की हमारे पास कितने अधिकतम इस विकल्प है समाज में जिसमे हमारा गौत्र ७ पीढ़ी से अलग है, क्योंकि ऐसा करने से हम धर्म की रक्षा करने में सफल होंगे। धन्यवाद

    Reply

Leave a Reply

This site is protected by wp-copyrightpro.com