You are here
Home > Author: Sanjay Sharma

हनुमान जयन्ती का महत्त्व व इतिहास || Hanuman Jayanti

hanuman-jayanti

Hanuman Jayanti Details in Hindi : चैत्र माह की पूर्णिमा के दिन मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के परम भक्‍त हनुमान का जन्मदिवस मनाया जाता है। इस दिन भगवान श‍िव के 11वें अवतार श्री हनुमान ने माता अंजना के गर्भ से जन्‍म लिया था। हनुमान जयन्ती के इस पावन पर्व को हर्षोल्लास के साथ पूरे देश में मनाया…

महावीर जयन्ती का महत्त्व व इतिहास | Mahavir Jayanti Jain Festival

significance-of-mahavir-jayanti

Mahavir Jayanti Details in Hindi : महावीर जयंती ना सिर्फ जैन धर्म के अनुयायियों के लिए बल्कि पूरे भारतवर्ष के लिए एक पावन दिन है। यह पूरे देश भर में मनाया जाता है। यह जैन समाज का सबसे प्रमुख पर्व है। महावीर जयंती को महावीर जन्म कल्याणक के नाम से भी जाना जाता है। महावीर जयंती के दिन जैन…

शनि प्रदोष व्रत कथा, पूजा विधि, महत्त्व व मुहूर्त | Shani Pradosh Vrat Katha

shani-pradosh-vrat-katha

Shani Pradosh Vrat Katha in Hindi : प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को “प्रदोष” कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है।  शनि प्रदोष व्रत शनिवार को आता है। यह सभी प्रदोष व्रतों में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। जो…

शुक्र प्रदोष (भृगु वारा) व्रत कथा, पूजा विधि, महत्त्व व मुहूर्त | Shukra Pradosh Vrat Katha

shukra-pradosh-vrat-katha

Shukra Pradosh Vrat Katha in Hindi : प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को “प्रदोष” कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है।जब प्रदोष शुक्रवार को पड़ता है तो उसे ”भृगु वारा प्रदोष व्रत” कहा जाता है। इस व्रत को करने…

गुरु व्रत कथा, पूजा विधि, महत्त्व व मुहूर्त Guru Pradosh Vrat Katha

guru-pradosh-vrat-katha

Guru Pradosh Vrat Katha in Hindi : प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को “प्रदोष” कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है। गुरुवार के दिन पड़ने वाला प्रदोष ”गुरु प्रदोष व्रत” कहलाता है। इस उपवास को रख कर भक्त अपने…

रवि प्रदोष (भानु वारा) व्रत कथा, पूजा विधि, महत्त्व व मुहूर्त | Ravi Pradosh Vrat Katha

ravi-pradosh-vrat-katha

Ravi Pradosh Vrat Katha in Hindi : प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को “प्रदोष” कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है।रविवार के दिन पड़ने वाला प्रदोष ”भानु वारा” कहलाता है। भानु वारा प्रदोष व्रत का लाभ यह है…

प्रदोष व्रत का महत्त्व, व्रत विधि, उद्यापन विधि, पूजा समय व मुहूर्त | Pradosh Vrat

pradosh-vrat-katha

Pradosh Vrat Katha Puja Vidhi Udyapan Vidhi in Hindi :  प्रदोष व्रत में भगवान शिव की उपासना की जाती है। यह भगवान शिव और पार्वती को समर्पित एक महत्वपूर्ण व्रत है जो की हर माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि को किया जाता है। यह व्रत हिंदू धर्म के सबसे शुभ व महत्वपूर्ण व्रतों में से एक…

बुध प्रदोष (सौम्यवारा) व्रत कथा, पूजा विधि, महत्त्व व मुहूर्त | Budh Pradosh Vrat Katha

budh-pradosh-vrat-katha

Budh Pradosh Vrat Katha in Hindi : प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को “प्रदोष” कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है। जब प्रदोष व्रत बुधवार को आता है तो इसे ‘सौम्य वारा प्रदोष’ कहा जाता है।  इस शुभ…

मंगल प्रदोष व्रत कथा, पूजा विधि, महत्त्व व मुहूर्त | भौम प्रदोष | Mangalvar Pradosh Vrat Katha

mangalvar-pradosh-vrat

Bhaum Pradosh / Mangalvar Pradosh Vrat Katha in Hindi : प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समय को “प्रदोष” कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के लिए प्रदोष व्रत रखा जाता है। जब प्रदोष व्रत मंगलवार को आता है तो इसे ‘भौम प्रदोष’ कहा जाता है।…

Vamana Dwadashi | वामन द्वादशी का महत्त्व, व्रत कथा, पूजा विधि व मुहूर्त

vaman-dwadashi

Vamana Dwadashi Details in Hindi : चैत्र तथा भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को वामन द्वादशी मनाई जाती है। श्रीमद्भगवदपुराण के अनुसार उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में भाद्रपद माह में इसी शुभ तिथि को श्रवण नक्षत्र के अभिजित मुहूर्त में भगवान विष्णु का वामन अवतार हुआ था। विष्णु जी के दस…

Top